‘महाभारत’ में इस सीन को करते हुए रो पड़ी थीं रूपा गांगुली, नहीं लिया था एक भी रीटेक !

लखनऊ: लॉकडाउन में जब टीवी सीरियल की शूटिंग बंद थी तो दूरदर्शन पर रामायण का प्रसारण फिर से किया गया। दर्शकों की मांग को देखते हुए बीआर चोपड़ा की महाभारत का प्रसारण भी हुआ। इन शोज की वजह से दूरदर्शन की टीआरपी में भी बढ़ोत्तरी हुई। महाभारत में द्रौपदी का किरदार अभिनेत्री रूपा गांगुली ने निभाया।

1988 में प्रसारित बीआर चोपड़ा की महाभारत में द्रौपदी का किरदार कर रूपा गांगुली घर घर मशहूर हो गईं। इस किरदार में उनकी दमदार परफॉर्मेंस दिखी। रूपा गांगुली का जन्म 25 नवंबर 1966 को हुआ। अभिनेत्री होने के साथ साथ वे एक गायिका भी हैं। उनके जन्मदिन पर बताते हैं महाभारत के एक सीन से जुड़ा किस्सा।

महाभारत में एक सीन करने के बाद रूपा गांगुली फूट फूटकर रो पड़ी थीं। ये सीन था द्रौपदी के चीरहरण का दृश्य। रिपोर्ट्स के मुताबिक, रूपा गांगुली ने अपने अभिनय से द्रौपदी के चीरहरण का सीक्वेंस इतने दमदार तरीके से निभाया था कि अभिनेत्री असल जिंदगी में रोने लगी थीं।

रूपा सेट पर इतना रोने लगी थीं कि मेकर्स और उनके सह कलाकार काफी समय तक उन्हें चुप कराते रहे। अभिनेत्री के तौर पर रूपा ने इस सीन को इतने बेहतरीन तरीके से निभाया कि एक बार में ही शूट हो गया था और उन्होंने कोई रीटेक नहीं लिया था। बता दें कि पहले द्रौपदी का किरदार जूही चावला को ऑफर हुआ था।

द्रौपदी के किरदार का शूट शुरू होने से तीन महीने पहले जूही चावला की फिल्म रिलीज हुई थी कयामत से कयामत तक, लेकिन वह द्रौपदी के लिए एग्रीमेंट साइन कर चुकी थीं। इसके बाद जूही ने चोपड़ा जी से निवेदन किया था कि वे अभी फिल्मों के लिए काम करना चाहती हैं। जिसके बाद बीआर चोपड़ा ने एग्रीमेंट कैंसिल कर दिया था।

Source: Amar Ujala

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper