महाराष्ट्र के दलित विरोधी हिंसा के कारण राज्यसभा स्थगित

नई दिल्ली: राज्यसभा में बुधवार को महाराष्ट्र में हुए दलित विरोधी हिंसा की वजह से सदन में हंगामा उत्पन्न हो गया जिसके बाद सदन दो बजे तक स्थगित कर दिया गया। कुछ विपक्षी पार्टियों ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) पर इस हिंसा का आरोप लगाया। बहुजन समाज पार्टी(बसपा) के सतीश चन्द्र मिश्रा ने हिंसा के लिए आरएसएस और भाजपा को जिम्मेदार ठहराया।

मिश्रा के साथ अन्य सदस्यों ने दावा किया कि इस विषय पर चर्चा के लिए उन्होंने नोटिस दिया था। जैसे ही विपक्षी पार्टियों ने राज्यसभा में इस मुद्दे को उठाना की कोशिश की, सत्ता पक्ष के सदस्यों ने भी इस के विरोध में मामला उठाने की कोशिश की, जिसके बाद राज्यसभा में हंगामा उत्पन्न हो गया। सभापति वेंकैया नायडू ने इससे पहले दोपहर 12 बजे तक राजसभा की कार्यवाही स्थगित की थी।

सदन की कार्यवाही 12 बजे दोबारा शुरू होने के साथ ही इस मुद्दे पर फिर से हंगामा शुरू हो गया और सभापति को दो बजे तक सदन स्थगित करना पड़ा। सदन में मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण)विधेयक पेश किया जाना था लेकिन भीम-कोरेगांव हिंसा की वजह से सदन में हुए हंगामे के चलते बुधवार को इस विधेयक का पास होना मुश्किल लग रहा है। लोकसभा ने इस विधेयक को पिछले हफ्ते ही पास कर दिया था। इसके अंतर्गत तीन तलाक देने वाले पति को तीन वर्ष की सजा दिए जाने का प्रावधान है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper