महाराष्ट्र के बाद अब तमिलनाडु ने भी 31 मई तक बढ़ाया लॉकडाउन, 25 जिलों को दी राहत

नई दिल्ली: देश में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब तक भारत में कोरोना से 90 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं वहीं 2000 से ज्यादा लोगों की अब तक मौत हो चुकी है। इस बीच महाराष्ट्र के बाद तमिलनाडु ने भी 31 मई तक लॉकडाउन को बढ़ा दिया है।

मुख्यमंत्री पलानीसामी ने कहा कि लॉकडाउन 31 मई तक बढ़ाया गया है साथ ही कुछ रियायतें भी दी गईं हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि लॉकडाउन का तीसरा चरण आज खत्म हो रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में हालांकि लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा की थी और कहा था कि 18 तारीख से पहले इसे लेकर नए दिशा-निर्देश जारी किए जाएंगे।

राज्य सरकार के नए आदेश के बाद स्कूल, कॉलेज, धार्मिक स्थल, सिनेमा, थिएटर और बार बंद रहेंगे। हालांकि, कोयंबटूर, सलेम, त्रिची समेच राज्य के 25 जिलों में लॉकडाउन प्रतिबंधों में छूट रहेगी। इससे पहले, पंजाब और उसके बाद महाराष्ट्र ने लॉकडाउन को 31 मई तक बढ़ा दिया। राज्य के मुख्य सचिव अजय मेहता ने लॉकडाउन बढ़ाने का आदेश जारी किया। इस तरह से पंजाब, महाराष्ट्र और तमिलनाडु ने औपचारिक तौर पर लॉकडाउन-4 की घोषणा कर दी। महाराष्ट्र और तमिलनाडु ये दोनों ऐसे राज्य हैं जहां पर कोरोना संक्रमण के मामले अन्य राज्यों को मुकाबले काफी ज्यादा आ रहे हैं।

दरअसल, केंद्र सरकार पहले ही यह कह चुकी है कि देश में लॉकडाउन का चौथा चरण भी लागू होगा, जिसकी औपचारिक घोषणा आज किसी भी वक्त हो सकती है। ऐसा इसलिए क्योंकि आज यानी 17 मई को लॉकडाउन 3.0 की मियाद पूरी हो रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper