महिलाएं जिस काम के लिए करती थीं प्याज का इस्तेमाल, वो जानकर यकीन न होगा !

लखनऊ: ऐसे बहुत कम लोग मिलेंगे जो खाने के साथ प्याज का आनंद लेना पसंद न करते हो। लेकिन कम लोग ही जानते हैं कि प्याज खाने का स्वाद बढ़ाने के अलावा यौन शक्ति, शीघ्रपतन, वीर्यवृद्धि और नपुंसकता जैसी समस्याओं को दूर करने में भी काफी लाभदायक है। आपको बता दें देश में सबसे ज्यादा प्याज महाराष्ट्र में पैदा होती है। इसके बाद नंबर आता है कर्नाटक, उड़ीसा, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु और गुजरात जैसे प्रदेशों का।

प्याज के हैं बहुत सारे फायदें

प्याज का इस्तेमाल खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है। इसे सब्जियों में तो ड़ाला ही जाता है साथ ही साथ इसे कुछ लोग अलग से सलाद के रुप में भी खाते हैं। कुछ लोगों को तो प्याज खाने की ऐसी आदत होती है कि वो इसके बिना खाना खा ही नहीं सकते। लेकिन हाल ही में प्याज को लेकर एक नई बात सामने आई है। जिसे जानकर आपके लिए यकीन करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है।

पांच हजार साल पहले खुदाई में मिले थे प्याज के अवशेष

प्याज के इतिहास के बारे में ज्यादा कुछ किसी को भी मालूम नहीं है। लेकिन दुनिया के लिए चौकाने वाली बात तब सामने आई जब करीब पांच हजार साल पहले हुई खुदाई में प्याज के अवशेष मिले। काफी छानबीन और रिसर्च के बाद पता चला कि महिलाएं पहले प्याज का इस्तेमाल केवल खाने के लिए ही नहीं करती थी, बल्कि वह इसका इस्तेमाल ऐसे काम के लिए भी करती थी, जिसे जानकर आपको यकीन नहीं होगा।

सालों पहले इस काम के लिए इस्तेमाल होता था प्याज

मिस्र में ईसा से तीन हजार साल पहले प्याज की खेती होने की बात सामने आई है। मिस्र के राजा रामसेस चतुर्थ की ममी में भी प्याज के अवशेष पाए गए थे।

आपको बता दें कि पहले के समय महिलाएं प्याज का इस्तेमाल पूजा करने और अंतिम संस्कार के समय के लिए किया करती थी।

इसके अलावा जिन महिलाओं को मां बनने में समस्या होती थी उनका इलाज डॉक्टर प्याज से ही करते थे। महिलाओं के अलावा प्याज का इस्तेमाल जानवरों के लिए भी किया जाता था।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper