महिलाओं के लिए बहुत लाभदायक है LIC की ये स्कीम, हर महीने मिलेगी गारंटीड आमदनी

आर्थिक रूप से मजबूत होने के लिए लोग तरह-तरह के प्लान लेते हैं. हर व्यक्ति की अपनी प्राथमिकता होती है. यही वजह है कि इंश्योरेंस कंपनियां अलग-अलग पॉलिसी लॉन्च कर रही हैं. एलआईसी ने महिलाओं के लिए भी कई पॉलिसी लॉन्च की है. एलआईसी की आधार शिला योजना खासतौर से महिलाओं के लिए है. यह योजना उन महिलाओं के लिए है जिनके पास आधार कार्ड है.

कैसे ले सकती हैं यह पॉलिसी

इस योजना में निवेश के लिए न्यूनतम आयु सीमा 8 वर्ष और अधिकतम 55 वर्ष है. जबकि मेच्योरिटी के समय पॉलिसीहोल्डर की उम्र 70 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए. पॉलिसी का टर्म 10 से 20 साल का होता है. यह पॉलिसी एलआईसी ने 1 फरवरी 2020 को लॉन्च की थी. यह पॉलिसी सेविंग के साथ लाइफ कवर भी उपलब्ध कराती है. मैच्योर होने पर पॉलिसीहोल्डर को एकमुश्त राशि मिल जाती है, जबकि पॉलिसी होल्डर की मृत्यु पर परिवार को सहायता राशि मिलती है.

योजना के फायदे

अगर पॉलिसी धारक की मृत्यु पॉलिसी प्रारंभ होने के पहले 5 वर्ष में होती है, तो उसे मृत्यु पर मिलनेवाले लाभ का भुगतान किया जाता है. अगर पॉलिसीधारक की मृत्यु, पॉलिसी शुरू होने के 5 वर्ष बाद लेकिन मैच्यूरिटी (परिपक्वता) से पहले होती है, तो उसके नॉमिनी को मृत्यु पर मिलनेवाला बीमित रकम के साथ लॉयल्टी एडिसन्स (अगर कुछ है तो) का भी भुगतान किया जाता है.

योजना की शर्तें

अगर पॉलिसी बंद हो गई है और पेडअप चल रही है तो उसे फिर से रिवाइव किया जा सकता है. लेकिन ऐसा आखिरी भरे हुए प्रीमियम के 2 साल के भीतर ही हो सकता है. अगर आप किसी कारणवश तय तिथि पर प्रीमियम नहीं भर पाई हैं तो आपको 30 दिन से 15 दिन का समय अतिरिक्त मिल सकता है.

पॉलिसी की अन्य खासियतें

इस प्लान में आपको ऑटो कवर फैसिलिटी मिलती है. प्रीमियम भी काफी कम भरना पड़ता है और लॉयल्टी एडिशन की सुविधा भी है. आप 3 साल में लोन भी ले सकते हैं. आप जो प्रीमियम राशि भरते हैं उस पर आपको टैक्स में छूट भी मिल सकती है. पॉलिसी मैच्योर होने पर टैक्स नहीं देना पड़ता.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper