महिला के निधन पर नहीं मिली एम्बुलेंस, स्ट्रेचर पर ही शव को घर ले गए परिजन

नई दिल्ली: कोरोना वायरस ने पूरे विश्व की दशा और दिशा बदल दी है। ऐसे में कुछ संवेदनहीन तस्वीर भी बार-बार सामने आ रही हैं। एक जगह कोरोना के कारण रोगी की मौत हो जाने से स्वास्थ्यकर्मी रोगी को एम्बुलेंस में ही छोडक़र भाग गए तो कुछ महीने पहले एक ऐसी तस्वीर सामने आई थी कि जिसमें एक कोरोना पीडि़त रोगी के निधन के बाद रोगी के शव को एक ऑटो में ले जाया गया था। वहां रोगी के शव के साथ बैठे व्यक्ति ने पीपीई किट भी नहीं पहना था या रिक्शा चालक और शव के साथ बैठे व्यक्ति ने मास्क भी नहीं पहना था। अब ऐसी एक घटना का वीडियो सामने आया है कि जिसमें एक वृद्घा की मौत हो गई और उसके परिवारवालों को एम्बुलेंस की सुविधा नहीं मिलने से स्ट्रेचर पर ही शव को घर ले गए ।

वाराणसी में स्वास्थ्य विभाग की संवेदनहीन तस्वीरें सामने आई है। जिले की विभागीय अस्पताल में वृद्घा की मौत के बाद परिवारवालों को डेड बॉडी घर ले जाने के लिए गाड़ी नहीं मिली तो परिवारवाले स्ट्रेचर पर मृत महिला का शव लेकर जा रहे थे। स्वास्थ्य विभाग की संवेदनहीनता का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। एक रिपोर्ट के अनुसार शुक्रवार सुबह को छोटी पीपरी विस्तार की निवासी कलावती देवी की तबीयत अचानक बिगड़ गई। परिवारवाले सुरक्षित ढ़ंग से महिला को लेकर शिव प्रसाद गुप्त विभागीय अस्पताल पहुंचे। अस्पताल ने पहले रोगी की उपचार के लिए मना कर दिया। काफी संघर्ष के बाद स्वास्थ्यकर्मियों ने लगभग 1 घंटे के बाद महिला का उपचार शुरु किया।

शाम होते ही महिला की तबीयत अधिक बिगड़ गई, तो डॉक्टर ने उन्हें 2 इन्जेक्शन दिया। इन्जेक्शन देने के बाद थोड़ी देर में ही महिला की मौत हो गई। मौत के बाद जब परिवारवालों ने शव को घर ले जाने के लिए एम्बुलेन्स की मांग की तो घंटों तक इंतजार करने के बावजूद उन्हें एम्बुलेंस नहीं मिली। उसके बाद स्ट्रेचर की मदद से ही उनके परिवारवाले शव को लेकर घर गए। स्वास्थ्य विभाग की संवेदनहीनता और लापरवाही का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो वाराणसी मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने इस घटना पर जांच के बाद कार्यवाही करने की बात की। शिव प्रसाद गुप्त विभागीय अस्पताल के मुख्य चिकित्सक अधिक्षक डॉ. प्रसन्ना ने कहा कि अस्पताल में शव को ले जाने के लिए एम्बुलेंस की व्यवस्था नहीं है। शव वाहिनी की मदद से ही शव को ले जाने की व्यवस्था है। इस घटना में शव वाहिनी को जानकारी दे दी गई थी, किंतु मृतक के परिवारवाले और अधिक इंतजार नहीं करके स्ट्रेचर पर ही शव को लेकर जा रहे थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper