महिला ने 100 दिनों तक लगातार पहनी एक ही ब्लैक ड्रेस, जानिए इसके पीछे की वजह

हम में ज्यादातर लोग हर रोज़ नहाने के बाद कपड़े जरूर बदलते हैं या फिर जब भी हम कहीं बाहर जाते हैं, तो कोई नया आउटफिट पहनकर ही जाते हैं. लेकिन, क्या आपने कोई भी ड्रेस या आउटफिट हफ्तों, महीनों तक लगातार पहना है. आप सोच रहे होंगे कि भला ऐसा कैसे हो सकता है कि कोई एक ही आउटफिट को कई दिनों तक लगातार पहन सकता है. मगर अब हम आपको जो बताने जा रहे हैं, वो जानकर आप हैरान रह जाएंगे. क्योंकि एक महिला है, जिसने अपनी एक ही ड्रेस को लगातार 100 दिनों तक पहना. जी हां, ये बात बिल्कुल सच है. बोस्टन (Boston) में रहने वाली सारा रॉबिंस-कोल (Sarah Robbins-Cole) ने अपनी एक ही ब्लैक ड्रेस 100 दिनों तक लगातार पहनी है.

द मिरर (The Mirror) के मुताबिक, तेजी से बढ़ते हुए फैशन के बिना रहने और अपने जीवन को सादे ढंग से जीने के लिए सारा रॉबिंस-कोल ने पिछले साल सितंबर में 100 डे ड्रेस चैलेंज (100 Day Dress Challenge) लिया था और लगातार 3 महीने से ज्यादा समय तक हर दिन एक ही काले मेरिनो ऊन से बनी ड्रेस (merino wool dress) पहनी.

सारा ने ऑफिस जाने के लिए अपनी रोवेना स्विंग ड्रेस (Rowena swing dress) पहनी थी. उन्होंने इसे चर्च में पहना, वॉक के दौरान पहना और इस ड्रेस को क्रिसमस पर भी पहना. इसके साथ ही उन्होंने जरूरत के अनुसार, रंगीन जैकेट, स्कार्फ और स्कर्ट भी इस ड्रेस के ऊपर या नीचे पहने. 100 दिनों तक उन्होंने अपनी ड्रेसिंग स्टाइल को हर रोज़ इंस्टाग्राम पर लोगों के साथ शेयर किया और साथ ही ये भी बताया कि उन्होंने ये चैलेंज क्यों लिया है.

उन्होंने कहा, “100 दिनों तक सिर्फ एक ड्रेस पहनना एक मूल्यवान सबक है, जिसकी हमें (मुझे!) जरूरत है.”

View this post on Instagram

A post shared by SRC (@thisdressagain)

सारा अकेली महिला नहीं है, जिसने 100 डे ड्रेस चैलेंज लिया है, जो ऊन और एक अमेरिकी ब्रांड द्वारा शुरु किया गया था – “जो तीन सिद्धांतों पर बना है: सरलता से, सावधानी से उपभोग करें और अच्छा करें.”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper