मां पेट्रोल पंप पर काम करती थी, बेटी का रुतबा ऐसा कि माफिया भी थर-थर कांपते हैं

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की परीक्षा पास करना हर स्टूडेंट का सपना होता है. हर साल इसमें लाखों लोग बैठते हैं, लेकिन पास होकर सिलेक्शन सिर्फ 0.2 प्रतिशत का ही होता है. ऐसे में आज हम आपको एक ऐसी महिला से मिलाने जा रहे हैं जिसने न सिर्फ बेहद कम उम्र में इस परीक्षा को पास किया, बल्कि वे एक ऐसी IAS अधिकारी बनीं जिसे अपराधी खौफ खाते हैं.

इनसे मिलिए, ये हैं राजस्थान मैं पैदा हुई स्वाति मीणा (Swati Meena). अजमेर में अपनी पढ़ाई करने वाली स्वाती की मां एक पेट्रोल पंप चलाती थी. उसकी हमेशा से इच्छा थी कि बेटी डॉक्टर बने. स्वाती ने भी बचपन से डॉक्टर बनने का सपना देख लिया था, लेकिन फिर 8वीं क्लास में उनके साथ कुछ ऐसा हुआ कि उन पर IAS अधिकारी बनने का भूत सवार हो गया.

दरअसल जब वे 8वीं क्लास में थी तब उनकी मां की चचेरी बहन एक अधिकारी बन गई थी. स्वाती के पिता जब उनसे मिले तो उनके चेहरे पर एक अलग ही खुशी थी. बस तभी से स्वाती ने सोच लिया था कि वे भी एक दिन अधकारी बनेगी. इसके बाद जब वे बड़ी हुई तो यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी. उनके इस फैसले में पिता ने सबसे ज्यादा सपोर्ट किया.

एक तरफ स्वाति मीणा की मां पेट्रोल पंप चला रही थी तो दूसरी तरफ उनके पिता बेटी की मदद कर रहे थे. बेटी की तैयार के लिए जो संभव मदद हो सकती पिता करते, यहां तक कि वह बेटी के कई साक्षात्कार भी लेते ताकि असली दिन आने पर उनकी बेटी रेडी रहे.

स्वाती की कड़ी मेहनत आखिर रंग लाई और उन्होंने 2007 की UPSC परीक्षा में पूरे भारत में 260वां स्थान हासिल किया. वह अपने बैच की सबसे कम उम्र की IAS अधिकारी थी. उन्होंने महज 22 साल की उम्र में UPSC क्रेक कर ली थी. आईएएस बनने के बाद उन्हें मध्य प्रदेश कैडर मिला था. स्वाति मीणा एक निडर और दबंग अधिकारी के रूप में जानी जाने लगी.

मध्य प्रदेश के मंडला में जब उनकी पोस्टिंग हुई तो उन्होंने खनन माफिया की अक्ल ठिकाने लगाई. वे जब मंडल में कलेक्टर बनकर गई तो उन्हें खनन माफिया को लेकर कई विभागों से शिकायतें मिलीं. ऐसे में उन्होंने तुरंत इस पर एक्शन लेते हुए खनन माफियाओं पर कार्रवाई की. इस तरह वहाँ के खनन माफियाओं में दहशत का माहौल पैदा हो गया.

ऐसे ही जब वे मध्य प्रदेश के खंडवा में जॉब करने लगी तो वहाँ भी चुनौतीपूर्ण कार्यकाल रहा. सिमी गए आतंकियों के शव जब उनके क्षेत्र में आए तो बदमाशों ने माहौल बिगाड़ने का प्रयास किया हालांकि स्वाति मीणा ने प्रशासन के साथ इस चुनौती भरे काम को आसानी से कर लिया.

अक्टूबर 2016 में स्वाति मीना नायक बेहद चर्चा में रही थी. उस दौरान वह दशहरे के अवसर पर पुलिस लाइन में हथियार पूजा कार्यक्रम के दौरान एके47 के साथ गई थी. जब उनका यह वीडियो सामने आया तो वे विवादों से घिर गया. तब एक आरटीआई कार्यकर्ता ने पीएमओ में उनके नाम की शिकायत दर्ज कर दी थी. फिलहाल वे मुख्यालय में कुछ विभागों को संभाल रही हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper