मानसून ने पकड़ी रफ्तार, देश के कई हिस्सों में अगले 3-4 दिनों में बारिश

नई दिल्ली: बंगाल की खाड़ी के मध्य-पूर्वी भागों पर बना चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र जल्द ही एक निम्न दबाव के क्षेत्र में तब्दील हो सकता है. मौसम विभाग का कहना है कि दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के लिए अनुकूल स्थितियां हैं. अगर ऐसा ही रहा तो देश के कई हिस्सों में बारिश हो सकती है.

दक्षिण-पश्चिम मॉनसून दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु के अधिकांश हिस्सों, दक्षिण-पश्चिम बंगाल की खाड़ी और पूर्वी बंगाल के कुछ इलाकों की तरफ तेजी से आगे बढ़ रहा है. मॉनसून जिस रफ्तार से आगे बढ़ रहा है उसके मुताबिक कर्नाटक, तटीय आंध्र प्रदेश, रायलसीमा और बंगाल की खाड़ी, तमिलनाडु और पूर्वोत्तर के कुछ हिस्सों में अगले 3-4 दिनों में बारिश हो सकती है. भारतीय मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक, दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के तमिलनाडु, रायलसीमा के कुछ हिस्सों, आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों, पूरी दक्षिण-पश्चिम बंगाल की खाड़ी और पूर्वोत्तर भारत के कुछ इलाकों में आगे बढ़ने के लिए स्थितियां अनुकूल हैं.

मौसम विभाग के मुताबिक पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर मंगलवार तक कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना के साथ पश्चिम बंगाल, ओडिशा, सिक्किम तथा पूर्वोत्तर के राज्यों के कुछ हिस्सों में मॉनसून 11-12 जून तक आगे बढ़ सकता है. मौसम पूर्वानुमान एजेंसी स्काईमेट के अनुसार अगले 24 घंटे में पूर्वोत्तर भारत, ओडिशा के दक्षिणी तटीय हिस्सों, आंध्र प्रदेश, केरल, तटीय कर्नाटक, कोंकण व गोवा, गुजरात के दक्षिणी भागों और तमिलनाडु के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश होने के आसार हैं. ओडिशा के कुछ स्थानों पर भारी वर्षा भी हो सकती है. वहीं, आंतरिक कर्नाटक, रायलसीमा, तेलंगाना, छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्सों, पूर्वी मध्य प्रदेश, गंगीय पश्चिम बंगाल और उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल तथा सिक्किम में हल्की बारिश से मध्यम बारिश का अनुमान है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper