मायावती ने केंद्र पर बोला जोरदार हमला, कहा- भाजपा और कांग्रेस चोर-चोर मौसेरे भाई

लखनऊ: बसपा अध्यक्ष मायावती ने भाजपा और केंद्र सरकार के साथ-साथ कांग्रेस पर भी जोरदार हमला बोला है। उन्होंने कहा कि भाजपा और कांग्रेस चोर-चोर मौसेरे भाई हैं। डॉ. भीमराव अंबेडकर का भारतीय संविधान आज खतरे में जरूर है, परंतु यह भी एक ऐतिहासिक सत्य है कि संविधान को उसकी सही मंशा के अनुसार लागू करके देश का व्यापक कल्याण करने के मामले में कांग्रेस किसी भी प्रकार से भाजपा एंड कंपनी से कम फेल नहीं रही है।

संविधान के पवित्र उद्देश्यों को फेल करने के मामले में भाजपा व कांग्रेस दोनों ही चोर-चोर मौसेरे भाई हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के संविधान को खतरा होने के वक्तव्य पर प्रतिक्रिया देते हुए मायावती ने कहा, यही सही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आरएसएस की विघटनकारी व हिंदुत्ववादी सोच वाली सरकार में देश का संविधान खतरे में है। यह सभी जानते हैं कि आरएसएस की सोच संविधान व तिरंगा विरोधी रही है।

उन्होंने कहा कि ये लोग संविधान की शपथ लेकर सरकार में तो आ गए हैं, लेकिन इसी संविधान की आड़ में अपनी घोर कट्टरपंथी व जातिवादी सोच को लागू करने में भी ये लोग कोई कसर नहीं छोड़ते। यही कारण है कि आज देश की हर संवैधानिक संस्था, यहां तक कि संसद, न्यायपालिका व कार्यपालिका सभी एक अभूतपूर्व संकट के दौर से गुजर रहे हैं। उन्होंने कहा, यह भी एक ऐतिहासिक सत्य है कि बाबा साहेब ने देश की आजादी के बाद जिस सामाजिक व आर्थिक लोकतंत्र का मानवतावादी सपना देखा था, वह कांग्रेस के लंबे शासनकाल के दौरान बिखरता चला गया।

छुआछूत, जातीयता, जातिवादी हिंसा व भेदभाव संविधान में तो समाप्त कर दिया गया, परंतु सत्ताधारी लोग इसको हर स्तर पर संरक्षण देते हैं। उन्होंने कहा, भाजपा और आरएसएस एंड कंपनी यदि आज खुलेआम संविधान की अवमानना करके देश के इतिहास में काला अध्याय जोड़ रही है तो कांग्रेस का भी दामन कम दागदार नहीं है। लेकिन बसपा संविधान की रक्षा में अपना सब कुछ कुर्बान कर देगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper