मारुति की फैक्ट्री में पिता करते थे काम, बेटी को ऐसे बनाया IPS अफसर, KBC में जीते एक करोड़

भारत में यूपीएससी की परीक्षा सबसे कठिन मानी जाती है। सिविल सर्विस में आने वाले कैंडिडेट किसी एक बैकग्राउंड से नहीं बल्कि अलग-अलग बैकग्राउंड से आते है। ऐसा नहीं है कि जिनके पास अच्छा खासा धन हो या बेस्ट ट्यूशन क्लासेज वही यूपीएससी की परीक्षाएं में पास हों। अपनी कड़ी मेहनत और लगन से कोई भी कैंडिडेट बिना ट्यूशन के परीक्षा पास कर सकता है। आर्थिक तंगी से जूझते हुए भी कई कैंडिडेट्स ने ना सिर्फ यूपीएससी की तैयारी करते हैं बल्कि उसमें उत्तीर्ण भी होते हैं। उन्हीं कैंडिडेट्स में से एक नाम मोहिता शर्मा का भी है। मोहिता चार बार सिविल सर्विस में असफल रहीं लेकिन पांचवे प्रयास में उन्होंने न सिर्फ परीक्षा पास की बल्कि अपनी गलतियों से भी सबक लिया।

बता दें कि इस समय मोहिता जम्मू कश्मीर में तैनात है। मूल रूप से वह हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा की रहने वाली हैं। केबीसी के 12वें सीजन में वह एक करोड़ रुपए भी जीत चुकी हैं। एक करोड़ रुपए जीतने के बाद वह अचानक से सुर्खियों में आ गई थी। सोशल मीडिया हो या टीवी हर जगह उन्हीं के चर्चे थे। उस समय मोहिता के पति रूसाल का कहना था कि वह 20 साल से इस कंप्यूटर के लिए प्रयास कर रहे है। जूनियर केबीसी से ही वह प्रयास कर रहे है। लेकिन अभी तक सफल नहीं हो पाए थे। उनको खुशी है कि उनकी पत्नी केबीसी में सफल हो गई।

मोहिता शर्मा के पिता मारुति फैक्ट्री में काम करते थे। उनकी मां घर संभालती है। मोहिता के परिवार की आर्थिक स्थिति बिल्कुल भी अच्छी नहीं थी। लेकिन पिता चाहते थे कि उनकी बेटी एक बड़ी अधिकारी बने। मोहिता ने भी अपने परिवार के सपनों को टूटने नहीं दिया। वह लगातार चार बार असफल रही। फिर भी उन्होंने हार नहीं मानी। पांचवे प्रयास में सफल हो गई।

मोहिता की शुरुआती पढ़ाई दिल्ली पब्लिक स्कूल द्वारका से हुई। इसके बाद उन्होंने भारतीय विद्यापीठ कालेज से इलेक्ट्रोनिक्स और संचार से इंजीनियरिंग की। बीटेक के बाद साल 2012 में मोहिता ने सिविल सर्विस की तैयारी की।

मोहिता ने तैयारी के लिए कही भी कोचिंग नहीं ली। उन्होंने इंटरनेट के माध्यम से तैयारी की। मोहिता का कहना है कि अगर आपको अच्छी कोचिंग नहीं मिलती है तो बेकार में भटकने की जरूरत नहीं है। आपको इंटरनेट पर सारी सामग्री उपलब्ध हो जाएगी। उन्होंने बताया कि मैंने महत्वपूर्ण विषयों के नोट्स बना लिए। जिससे मेरी तैयारी आसान हो गई। मोहिता जब केबीसी के 12वे सीजन में हॉट सीट पर बैठी थी तो उनके पति मंत्रजाप कर रहे थे। वह दुआ कर रहे थे कि उनकी वाइफ सात करोड़ रुपए जीत जाए। हालांकि सात करोड़ रुपए के सवाल पर मोहिता उलझन में फंस गई।

उन्होंने वहां से गेम ही छोड़ दिया। आईएफएस पति रूसाल बताते है कि वह पांचवी क्लास से ही जूनियर केबीसी देख रहे है। उन्होंने यहां पर आने के लिए कई राउंड क्लियर किए, लेकिन फाइनल राउंड क्लियर नहीं कर पाए।

अपराधियों में है मोहिता का कहर

मोहिता शर्मा की पहचान विभाग में एक ईमानदार अधिकारी की है। कुछ समय पहले मोहिता शर्मा के प्रतिनिधित्व में बड़ी ब्राह्मणा पुलिस ने कई कबाड़ी गोदामों को सील कर दिया था। इन गोदामों में बड़े स्तर पर सरकारी सामग्री को चोरी छिपे बेचा जा रहा था। इन गोदामों को सील करके मोहिता शर्मा काफी चर्चा में आ गई थी।

सोशल मीडिया पर भी हैं एक्टिव

मोहिता शर्मा सोशल मीडिया पर पूरी तरह से एक्टिव रहती है। वह अपने परिवार के साथ हर इवेंट की फोटो अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर करती है। उनके इंस्टाग्राम अकाउंट पर 91 हजार फालोवर है। मोहिता केवल 206 लोगों को ही फॉलो करती है। अपने सोशल अकाउंट पर मोहिता समय समय आने वाले मुद्दो पर भी कमेंट करती रहती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper