मार्च 2019 तक सभी को 24 घंटे मिलेगी बिजली

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने गुरुवार को ग्रामीण विद्युतीकरण के कार्य की रफ्तार को संतोषजनक बताया। साथ ही सरकार ने कहा कि देशभर में मार्च 2019 के बाद 24 घंटे बिजली देना सभी राज्यों के लिए बाध्यकारी होगा। केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने लोकसभा में कहा कि पिछले दिनों सभी राज्यों के ऊर्जा मंत्रियों की बैठक हुई। हमने तय किया कि मार्च 2019 के बाद सभी राज्यों के लिए 24 घंटे बिजली आपूर्ति करना बाध्यकारी होगा।

उन्होंने कहा कि हम इस प्रावधान को कानून में शामिल करेंगे और कोई भी बिजली वितरण कंपनी यदि तकनीकी अथवा अन्य किसी अत्यावश्यक कारण को छोड़कर बिना वजह कटौती करती है तो उसे हर्जाना भरना पड़ेगा। सिंह ने भावना गवली के प्रश्न के उत्तर में कहा कि राज्यों से प्राप्त जानकारी के अनुसार पिछले तीन सालों 2014-15, 2015-16 और 2016-17 में 14528 गांवों में बिजली पहुंचाई गई है। उन्होंने कहा, ‘‘ग्रामीण विद्युतीकरण अच्छी तरह चल रहा है।’’

सिंह ने कहा कि बिजली में लॉस को कम करने के लिए प्रणाली को मजबूत करना होगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने दिसंबर 2018 तक बिजली लॉस को 15 प्रतिशत से कम करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। प्रणाली को मजबूत करने के लिए हम राज्यों को 1,72,000 करोड़ रुपये दे रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper