मासूम बच्ची थी दो दिन से थी भूखी, RPF जवान ने चलती ट्रेन में दौड़कर पकड़ाया दूध, मां के कहा- यही हमारे रियल हीरो

भोपाल. बेलगांव (कर्नाटक) से गोरखपुर जा रही श्रमिक स्पेशल ट्रेन में सवार एक मां घर जाने की जल्दबाजी में अपनी तीन माह की बेटी के लिए दूध रखना भूल गईं। बच्ची को भूख लगी तो मां दो दिन तक पानी में बिस्किट मिलाकर खिलाती रही। दूध के बिना भूख से बिलखती बेटी के लिए हर स्टेशन पर महिला गुहार लगाती रही, लेकिन मदद उसे भोपाल आकर मिली।

ट्रेन से भोपाल पहुंची महिला साफिया हासमी की गुहार सुनकर आरपीएफ के एक जवान ने बच्ची के लिए दूध का इंतजाम किया। स्टेशन से रफ्तार पकड़ चुकी ट्रेन में मां तक दूध पहुंचाने के लिए आरपीएफ जवान ने दौड़ लगाई, तब जाकर बच्ची को दूध मिल पाया। महिला गोरखपुर की रहने वाली थी। अपने घर पहुंचकर तीन माह की बच्ची की मां साफिया मदद पहुंचाने वाले जवान इंदर यादव को शुक्रिया कहना नहीं भूली। उसने पहले सुबह जवान को मैसेज करके धन्यवाद किया। इसके बाद वीडियो संदेश भेजकर कहा- यही हमारे रियल हीरो हैं। इसके पहले महिला ने भोपाल में पदस्थ इंदर यादव का नंबर पता लगाकर संपर्क किया।

साफिया हासमी ने बताया कि वे परिवार के साथ बेलगांव में फंसी हुईं थीं। किसी तरह श्रमिक ट्रेन से गोरखपुर जाने का मौका मिला। मैं अपनी बेटी के लिए दूध रखना भूल गई। ट्रेन जब भोपाल स्टेशन पहुंची पर आरपीएफ के जवान इंदर यादव से मैंने बेटी के भूखे होने के बारे में बताया। उन्होंने मुझे जगह पर बैठने को कहा और वहां से चले गए।

इधर, ट्रेन स्टेशन से चलने लगी। जैसे-जैसे ट्रेन की स्पीड बढ़ रही थी, वैसे-वैसे मेरी उम्मीद कम होती जा रही थी। तभी खिड़की में से किसी ने दूध अंदर पहुंचाया। यह इंदर भाई ही थे। मैं तो उन्हें शुक्रिया भी नहीं कह पाई थी। दो दिन बाद मिले दूध को पीकर बेटी सुकून से सो गई। उसे सोता देख राहत मिली। इंदर भाई जैसे ही लोग असली हीरो हैं। उनकी जितनी भी तारीफ की जाए, कम है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper