मिलिए ‘काशी’ के देसी आयरन मैन से, इन्होंने बनाया है आतंकियों से भिड़ने के लिए स्पेशल सूट

वाराणसी । चलिए आज आपकी मुलाकात करवाते हैं भारत के देसी आयरन मैन (Iron man )से । ये हैं वाराणसी निवासी (Shyam Cahurasia) श्याम चौरासिया । इन दिनों ये देसी आयरन मैन सोशल मीडिया की सुर्खियों में हैं । इनका चरित्र फिल्म थ्री इडियट्स के किरदार ‘फुनसुक वांगडू ‘ से काफी मेल खाता है । इस दिनों श्याम चौरासिया अपने एक सूट के लिए सुर्खियों में है , जिसे उन्होंने भारतीय फौज के जवानों के लिए तैयार किया है । इस स्पेशल सूट को लोहे की चादर से बनाया गया है और एक जवान की सुरक्षा के लिहाज से यह काफी अहम भी साबित हो सकता है। इतना ही नहीं चौरासिया का दावा है कि इस सूट में लगी ऑटोमेटिक गन से आतंकियों के साथ ही देश के दुश्मनों का सफाया किया जा सकता है ।

बता दें कि काशी निवासी श्याम चौरसिया एक प्राइवेट इंस्टिट्यूट में इंजीनियरिंग (Engineering) के बच्चों को नई नई खोजों से रूबरू करवाते हैं । इतना ही नहीं यह समय समय पर अपनी नई नई खोज को लेकर सुर्खियों में रहते हैं । इन दिनों श्याम चौरसिया अपनी नई खोज के चलते सुर्खियों में हैं, जिसकी मदद से आतंकियों से लोहा लिया जा सकता है । श्याम ने आतंकियों से लड़ने के लिए एक खास सूट तैयार किया है , जो औटोमेटिक गन से लैस है ।

हालांकि श्याम का यह आयरन सूट अभी काफी प्रारंभिक स्तर पर , लेकिन इस तरह के मॉडल को अगर गुणवत्ता और तकनीकी रूप से सुधार के साथ तैयार किया जाए , तो आगे चलकर यह एक बड़ी सफलता साबित हो सकती है। बता दें कि श्याम चौरसिया एक प्राइवेट इंस्टिट्यूट में मामूली सी पार्ट टाइम जॉब करते हैं। श्याम इन दिनों अपने इस आयरन सूट को लेकर चर्चाओं में हैं। श्याम आर्थिक रूप से इतने मजबूत नहीं हैं कि वह अपने इस तरह के किसी प्रयोग को गुणवत्ता और तकनीकी रूप से मजबूत कर सकें । मसलन उनके पास इतनी रकम नहीं है कि वह इस आयरन सूट को बुलेट प्रूफ बना सकें । श्याम का कहना है कि अगर सरकार उसकी प्रयोग पर ध्यान दें तो संभवता हमारे जवानों के लिए सेफ्टी गार्ड खरीदने जैसी समस्या का बड़ा आसान हल निकल जाए ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper