मीठे से करें सुबह के खाने की शुरुआत, फिर देखें कमाल

नई दिल्ली: सुबह में फ्रेश एंड अप होने के बाद अगर आप कुछ मीठा खाते हैं तो यह आपके पाचन क्रिया के लिए एक रामबाण साबित हो सकता है। सुबह में कुछ भी खाने से पहले आपको नहा लेना चाहिए, क्योंकि आयुर्वेद में कहा जाता है कि जब आप कुछ खाते हैं तो आपके शरीर की तासीर गर्म होती है और नहाने से पहले खाना मतलब सर्दी-गर्मी को अपने शरीर में न्योता देना है। मीठा दूध वाला दलिया सेहत के लिए काफी ताकतवर माना जाता है। इसे खाने में शामिल कर आप काफी वेट लॉस कर सकते हैं। तो खाने की शुरुआत अगर मीठे से हो तो वज़न कम होना एक अच्छा कारण हो सकता है।

जब आप सुबह में अपना पहला मील मीठा ले लेते हैं तो आपको पूरा दिन मीठा खाने की क्रेविंग नहीं होती है। मतलब एक ही मील में मीठे का कोटा पूरा। आयुर्वेद के मुताबिक अगर देखा जाए तो व्यक्ति को अपने खाने की शुरुआत मीठे से और अंत तीखे से करना चाहिए। आयुर्वेद में कहा गया है कि केवल खाना ही नहीं बल्कि आप खाने को किस व्यव्स्था और रूप में ले रहे हैं काफी मायने रखता है। ये दोनों ही चीजें हमारी पाचन क्रिया से जुड़ी होती हैं। आयुर्वेद में जब आप अपने खाने की शुरुआत मीठे से करते हैं तो यह आपके पेट में काफी देर से पचता है।

वहीं इसकी अगली मील अगर आप हल्के खट्टे और फिर तीखे खाने की लेते हैं तो आपके पाचन के लिए ये काफी अच्छा साबित हो सकता है। दिन की पहली मील अगर मीठी हो तो यह आपके पेट में डाइजेस्टिव सेक्रीशन करता है और मीठे को सबसे आखिर में पचाता है जिसकी वजह से आपकी पाचन क्रिया काफी स्लो हो जाती है। वहीं अगर आपको मन नाश्ते में कुछ भी मीठा खाने का नहीं कर रहा है तो नमकीन खाने से पहले एक यो दो बाइट गुड़ के खा सकते हैं। लेकिन अगर आप मीठा खाना खाने के बाद खाते हैं तो इससे आपकी पाचन क्रिया पर उल्टा असर होता है। यह पेट में एसिडिटी को बढ़ावा देते हुए बदहज़मी करता है जिससे आपको गैस और ब्लोटिंग की शिकायत हो सकती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper