मुंबई में भारी बारिश के कारण जलभराव, रेलवे स्टेशन और सड़कों पर कई घंटों तक फंसे रहे लोग

मुंबई: मुंबई में मंगलवार देर रात तक जोरदार बारिश होने के कारण जगह-जगह पर जलभराव हो गया। सड़कों में लबालब पानी भरने के कारण कई घंटों तक वाहन चालक फंसे रहे। पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से सड़कों पर फंसे वाहन चालकों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया। वहीं, भारी बारिश के चलते मुंबई के सायन रेलवे स्टेशन पर पानी भर गया। देर रात तक यात्री टिन शेड के नीचे छिपे रहे।

उधर, पटरियों में पानी भरने की वजह से भी यात्रियों को काफी देर तक ट्रेन का इंतजार करना पड़ा। मौसम विभाग (India Meteorological Departmemt) के मुताबिक, बुधवार को भी मुंबई में तेज बारिश हो सकती है। मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक, मुंबई में बुधवार को आसमान में बादल छाए रहेंगे और यहां तेज बारिश की भी संभावना है। उधर, मंगलवार रात को हुई भारी के कारण लोगों को जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। सड़कों पर बारिश का पानी भरने की वजह से लोगों को घरों से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है।

दिल्ली में भी बारिश होने की संभावना
मौसम विभाग की जानकारी के अनुसार, बुधवार को देश की राजधानी दिल्ली में आंशिक तौर पर बादल छाए रहने और हल्की बारिश होने की संभावना है। शहर में पिछले 13 दिन से बारिश नहीं हुई है। मौसम विभाग के सफदरजंग केंद्र ने 8 सिंतबर को आखिरी बार बारिश दर्ज की थी। इस महीने में दिल्ली में केवल 3 दिन ही बारिश हुई है। बारिश नहीं होने के चलते लोगों को उमस भरी गर्मी का सामना करना पड़ा रहा है।

80 फीसदी कम हुई बारिश
मौसम विभाग के आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली में सितंबर में अब तक 80 फीसदी कम बारिश दर्ज की गई है। सफदरजंग केंद्र के मुताबिक इस माह में सामान्य 102 मिलीमीटर बारिश के बजाय अभी तक 20.9 मिमी बारिश दर्ज की गई है। दिल्ली में अगस्त में 237 मिमी बारिश दर्ज की गई थी जो इस माह में पिछले सात साल में हुई सर्वाधिक बारिश है। बता दें देश के अलग-अलग हिस्सों में इन दिनों जहां तेज बारिश देखने को मिल रही है। वहीं, दिल्ली-एनसीआर में बारिश न होने के कारण लोग उमस भरी गर्मी झेल रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper