मुकेश अंबानी की समधन ने किया है मनमोहन सिंह के साथ काम, आप भी जानेंगे तो रह जाएंगे हैरान

मुंबई: दुनिया के सबसे अमीर लोगों में शुमार हो चुके मुकेश अंबानी का पीरामल परिवार से गहरा नाता है, इस खानदान में उन्‍होंने अपनी प्‍यारी बेटी ईशा का ब्‍यरह जो किया है । लेकिन पीरमल परिवार से अंबानी परिवार के रिश्‍ते काफी पुराने है, दोनों फैमिलीज एक दूसरे को लंबे से जानती हैं । पीरामल परिवार की अहम सदस्‍य हैं ईशा अंबानी की सास, जिनके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं कि वो मनमोहन सिंह के साथ काम कर चुकी हैं । इतना ही नहीं मुकेश अंबानी की समधन स्वाती पीरामल पद्मश्री से सम्‍मानित हैं ।

स्वाती पीरामल ने मुंबई विश्वविद्यालय से 1980 में एमबीबीएस की डिग्री ली थ्‍सी । इसके बाद वह मास्टर्स की डिग्री के लिए हार्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ चली गईं। आपको बता दें ईशा अंबानी की सास स्वाती पीरामल, पीरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड में वाइस चेयरपर्सन हैं । स्वाती पीरामल मुंबई के गोपालकृष्णा पीरामल हॉस्पिटल की फाउंडर भी हैं।

स्वाती पीराम कई पब्लिक हेल्थ कैंपेन भी चला चुकी हैं । आपको बता दें पीरामल फाउंडेशन की डायरेक्टर के रूप में उन्होंने रूरल हेल्‍थ परब हुत काम किया है । वीकिपीडिया से मिली जाकारी के अनुसार स्वाती पीरामल का नाम 8 बार 25 शक्तिशाली महिलाओं की लिस्ट में दर्ज हुआ है। स्वाती पीरामल ने 2010 से लेकर 2014 तक प्रधानंत्री मनमोहन सिंह के काम किया है । वो साइंटिफिक एडवाइजरी काउंसिल और काउंसिल ऑफ ट्रे़ड फॉर पीएम का हिस्सा भी रह चुकी हैं। इतना ही नहीं स्वाती पीरामल आईआईटी मुंबई और हार्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के बोर्ड मेंबर्स में भी शामिल हैं।

स्वाती पीरामल को साल 2012 में देश के प्रतिष्ठित नागरिक सम्मान पद्मश्री से नवाजा गया था। उन्‍हें तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल ने इस सम्मान से सम्मानित किया था। स्‍वाती परामल के बारे में बहुत कम लोग ही ये बात जानते हैं कि वो पूरी तरह से सोशल सर्विस सेक्‍टर में काम करती हैं । अपनी बहू ईशा अंबानी के साथ उनकी एक दोस्‍त की तरह ट्यूनिंग है । कई मौकों पर ईशा उनके ही साथ अपने घर में आती हुई देखी जाती हैं ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper