मुकेश की दया याचिका राष्ट्रपति ने की खारिज

नयी दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने निर्भया मामले के दोषियों में से एक की दया याचिका शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के पास भेजी थी। मंत्रालय ने याचिका को अस्वीकार करने की सिफारिश की थी। जिसके बाद सूत्रो से जानकारी मिली है कि राष्ट्रपति ने मुकेश की दया याचिका खारिज कर दी है।

आपको बता दें कि दिल्ली की एक अदालत ने फैसले में चारों दोषियों को 22 जनवरी के दिन सुबह 7 बजे फांसी में लटाकाने का निर्देश जारी किया था। हालांकि इस मामले में दायर याचिकाओं को लेकर निर्भया का परिवार आक्रोशित नजर आ रहा है। निर्भया के परिजनों ने दिल्ली सरकार को लताड़ा है। एक न्यूज चैनल से बातचीत करते हुए निर्भया के पिता ने कहा कि दिल्ली सरकार तब तक सोती रही जब तक कि हम लोग आगे नहीं बढ़े है।

उन्होंने कहा कि आखिर जेल प्रशासन से पहले क्यों नहीं कहा गया कि आप लोग फांसी के लिए नोटिस जारी करिए। निर्भया के पिता ने कहा कि अगर चुनाव से पहले तक कोई फैसला नहीं आता है तो उसके लिए अरविंद केजरीवाल जिम्मेदार होंगे। इसी के साथ उन्होंने अरविंद केजरीवाल पर सत्ता में आने के लिए निर्भया केस के इस्तेमाल का आरोप भी लगाया।

वहीं निर्भया की मां ने कहा कि अब तक मैंने कभी राजनीति के बारे में बात नहीं की, लेकिन अब मैं कहना चाहती हूं कि जिन लोगों ने 2012 में सड़कों पर विरोध प्रदर्शन किया, आज वही लोग मेरी बेटी की मौत से राजनीतिक लाभ के लिए खेल रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper