मुख्यमंत्री परिषद् की बैठक में सबका विकास और एक साथ चुनाव के मसले छाये रहे

अखिलेश अखिल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक में लोकसभा और राज्य विधानसभा चुनाव एक साथ कराने पर आम सहमति बनाने के मुद्दे पर चर्चा की गयी, साथ ही 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले सरकार की महत्वाकांक्षी गरीब कल्याणकारी योजनाओं को जनता तक पहुंचाने के लिए कड़ी मेहनत करने पर जोर दिया गया। मुख्यमंत्रियों से 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए व्यापक योजना के साथ तैयार रहने को भी कहा गया। 2018-19 के आम बजट में केंद्र सरकार ने गांव, गरीब और किसान पर सबसे ज्यादा जोर दिया है।

ऐसे में पार्टी का जोर इस बात पर है कि बजट के प्रावधानों को धरातल पर उतारा जाए। पांच घंटे तक चली इस बैठक में जनता की कल्याणकारी योजनाए और एक साथ चुनाव कराने के मुद्दे ही छाए रहे। माना जा रहा है कि बीजेपी एक साथ चुनाव के मसले पर सभी रजनीतिक दलों के साथ बैठक कर इस काम को आगे बढ़ाने का काम करेगी। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ बैठक में लोकसभा और राज्य विधानसभा चुनावों को एक साथ कराने के विषय पर चर्चा की गयी। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने लोकसभा और राज्य विधानसभा चुनाव साथ कराने के बारे में हमारे विचारों को सुना। ‘

लोकसभा और विधान सभा चुनाव एक साथ कराने के मसले को पीएम ने आगे बढ़ाते हुए कहा कि देश के लिए यह जरुरी है कि सारे चुनाव एक साथ हो क्योंकि साल भर कहीं न कहीं चुनाव होते हैं और आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू होने से विकास कार्य प्रभावित होता है।

भाजपा के एक उपमुख्यमंत्री ने बताया कि बैठक के दौरान विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने अपने-अपने प्रदेश में केंद्र सरकार की गरीब कल्याण योजनाओं के बारे में प्रस्तुति दी और आगे की कार्ययोजना पेश की। बैठक के दौरान पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने केंद्रीय बजट में प्रस्तावित योजनाओं को आने वाले समय में अपने-अपने प्रदेशों में लागू करने पर जोर दिया। प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी के मुख्यमंत्रियों और उपमुख्यमंत्रियों को यह सुनिश्चित करने को कहा कि गरीब कल्याण योजनाएं बिना किसी अवरोध के जरूरतमंदों तक पहुंचे।

यह इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि केंद्रीय योजनाओं का क्रियान्वयन भी राज्यों के माध्यम से होता है, लिहाजा पार्टी इसमें कोई चूक नहीं होने देना चाहती है। बैठक में पार्टी ने अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र सरकार की योजनाओं को लागू करने की समीक्षा की और जनता के बीच इसके प्रभाव का आकलन किया। भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों एवं उपमुख्यमंत्रियों की इस बैठक में प्रधानमंत्री के अलावा पार्टी अध्यक्ष अमित शाह एवं कुछ अन्य वरिष्ठ नेताओं ने हिस्सा लिया।

आपको बता दें कि यह बैठक ऐसे समय में हुयी है जब ओडिशा ,राजस्थान और मध्यप्रदेश में हुए उपचुनाव में बीजेपी को भरी शिकस्त खानी पड़ी है। ऐसे में माना जा रहा है कि बीजेपी हर हाल में विकास की योजनाओं को धरातल पर उतारने के प्रति सजग है साथ ही एक साथ चुनाव कराकर मोदी के नाम पर जनता के प्रति बने प्रेम का लाभ चुनाव में लेने की रणनीति है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper