मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के वायरल आडियो से बवाल

इंदौर. मध्यप्रदेश काग्रेस ने राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के दो दिन पुराने कथित भाषण की ऑडियो-वीडियो क्लिप जारी करते हुए प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस ने बुधवार को आरोप लगाया कि कमलनाथ सरकार भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के इशारे पर गिरायी गयी थी. सूबे में फिलहाल सत्तारूढ़ भाजपा ने इस आरोप को खारिज करते हुए इसे कांग्रेस की कुंठा का परिणाम बताया है.

हालांकि, कांग्रेस के मीडिया विभाग के प्रमुख जीतू पटवारी ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, मौजूदा मुख्यमंत्री चौहान इस भाषण में स्वीकार कर रहे हैं कि नरेंद्र मोदी सरकार और भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने तय किया था कि उन्हें मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार गिरानी है. चौहान के इंदौर में दिये भाषण को लेकर कांग्रेस की जारी ऑडियो-वीडियो क्लिप की प्रामाणिकता की अभी स्वतंत्र तौर पर पुष्टि नहीं हो सकी है.

पटवारी ने बताया कि चौहान के ऑडियो-वीडियो क्लिप को लेकर कांग्रेस कानून के जानकारों से सलाह-मशविरा कर शीर्ष न्यायालय में याचिका दायर करने पर भी विचार कर रही है. उन्होंने कहा, एक चुनी हुई सरकार को साजिश के तहत गिराना न केवल संवैधानिक प्रावधानों का उल्लंघन है, बल्कि यह मतदाताओं के साथ किया गया पाप भी है. सूबे के पूर्व मंत्री ने कहा, चौहान की इस स्वीकरोक्ति के बाद कांग्रेस का यह आरोप साबित हो गया है कि कमलनाथ सरकार गिराने के लिये केंद्र ने जान-बूझकर लॉकडाउन की घोषणा देरी से की जिससे पूरे देश में कोरोना वायरस की महामारी फैल गयी. लिहाजा इस महामारी के प्रकोप के लिये केंद्र सरकार दोषी है.

प्रदेश कांग्रेस समिति के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने बताया कि आठ जून को चौहान इंदौर के दौरे पर आये थे. इस दौरान उन्होंने जिले की सांवेर विधानसभा सीट के आगामी उपचुनाव को लेकर शहर की रेसीडेंसी कोठी में भाजपा नेताओं को संबोधित किया था. सलूजा के मुताबिक मुख्यमंत्री का विवादास्पद ऑडियो-वीडियो क्लिप उनके इसी भाषण का हिस्सा है. कांग्रेस की जारी क्लिप में चौहान, सिंधिया की सरपरस्ती में तुलसीराम सिलावट समेत कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के पालाबदल से कमलनाथ सरकार के पतन की ओर इशारा करते हुए कहते सुनायी पड़ रहे हैं, हम (प्रदेश की) गाड़ी रुकने नहीं देंगे, लेकिन एक सवाल है कि केंद्रीय नेतृत्व ने तय किया कि यह सरकार गिरनी चाहिये.

कांग्रेस के मुताबिक भाजपा नेताओं को संबोधित कर रहे चौहान क्लिप में आगे कहते सुनायी पड़ते हैं, आप बताओ कि सिंधिया और सिलावट के बिना सरकार गिर सकती थी क्या?…और कोई तरीका ही नहीं था. उधर, प्रदेश भाजपा प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने इस मामले में कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए कहा, यह सच्चाई शुरुआत से ही उजागर है कि कमलनाथ सरकार से नाराजगी के कारण कांग्रेस के ही विधायकों के रूठने और टूटने से इस सरकार का पतन हुआ.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper