मुस्लिम ‘वोट बैंक’ वाले VIDEO पर सियासी पारा गर्म, कमलनाथ के भीतरी कमरे का विभीषण कौन!

भोपाल: मध्य प्रदेश की सियासत को इन दिनों कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ के कथित वीडियो ने गर्मा दिया है. ये वीडियो उस कक्ष के हैं, जहां आम आदमी आसानी से और प्रदेशाध्यक्ष के सिपहसालारों की अनुमति के बगैर नहीं पहुंच सकता है. सवाल है कि आखिर कमलनाथ का विभीषण कौन है, जो वीडियो बना-बनाकर सार्वजनिक करने में लगा है. राज्य के मालवा-निमांड अंचल को छोड़ दिया जाए तो अन्य किसी भी हिस्से में ध्रुवीकरण की सियासत नहीं रही है. मगर कांग्रेस जो अपने को धर्मनिरपेक्ष बताते नहीं थकती और पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी मंदिर-मंदिर घूमकर अपने को हिंदू बता रहे हैं, उस पर कांग्रेस के कमलनाथ के कथित वीडियो ने पानी फेरने का काम शुरू कर दिया है.

इस वीडियो में कमलनाथ मुस्लिम समाज के प्रतिनिधियों से मुलाकात कर रहे हैं. इसमें कमलनाथ अपने को आरएसएस का बेहतर जानकार बता रहे हैं, साथ ही कह रहे हैं कि मतदान तक सब कुछ सहें. वही अन्य एक अन्य वीडियो आया है, जिसमें कमलनाथ कह रहे हैं कि मुस्लिम बहुल मतदान केंद्रों पर 90 प्रतिशत मतदान होना चाहिए. अगर ऐसा नहीं हुआ तो कांग्रेस का नुकसान होगा. यह कथित वीडियो उस कमरे के हैं, जहां कमलनाथ बैठते हैं. इस कमरे तक पहुंचने के लिए तीन मंजिल की सीढ़ियां तो पार करनी ही होती हैं, साथ में कई नेताओं के सामने से गुजरना होता है. इतना ही नहीं अंदर तभी जा सकते हैं जब या तो कमलनाथ की अनुमति हो या उनके सिपहसालार आप पर मेहरबान हो जाएं.

कमलनाथ भी मानते हैं कि उनसे सीधे मुलाकात न होने की कुछ वजहें हैं. उनकी ओर से इसके लिए एक व्यवस्था बनाई गई है, और उसी के तहत पार्टी के लोग उनसे मुलाकात करते हैं. अब सवाल यह उठ रहा है कि कमलनाथ से मुलाकात की जब चौकस व्यवस्था है तो वह कौन लोग हैं, जिन्होंने यह कथित वीडियो सार्वजनिक कर दिया है. यह तो तय है कि इसमें वही लोग शामिल होंगे, जो कमलनाथ से मुलाकात कराना तय करते हैं. पार्टी इस संकट से कैसे उबरेगी, यह सवाल पार्टी के हर नेता के दिमाग में उठ रहा है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper