मेयर की 16 सीटों में भाजपा 10 में आगे, नगरपालिकाओं एवं पार्षदों के चुनाव में गैर भाजपाई आगे

लखनऊ: उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव के परिणाम आने लगे हैं। पोस्टल बैलट की गिनती पहले हुई। इसमें भाजपा के मेयर प्रत्याशी आगे रहे। मतपत्रों की गिनती शुरू होने के बाद पहले नं. पर भाजपा और उसके बाद बसपा बढ़त बना रही है| बीएसपी ने जबर्दस्त वापसी करते हुए 5 सीटों पर आगे चल रही है। अभी तक महापौर की 16 सीटों के रुझान मिले हैं। बीजेपी 10 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है, बीएसपी भी जबर्दस्त वापसी करते हुए 5 सीटों पर आगे चल रही है। मथुरा की नई बनी सीट पर कांग्रेस बढ़त लिए हुए हैं। पिछले निकाय चुनावों के लिहाज से ये रुझाननगरीय निकाय चुनाव परिणामों क बीजेपी के लिए अच्छी खबर नहीं हैं।

नगर निगम मेयर प्रत्याशी जो आगे चल रहे हैं उनमे मथुरा से मोहन सिंह (कांग्रेस), मेरठ से कांदा कर्दम (बीजेपी), फिरोजाबाद से पायल राठौर (बीएसपी), वाराणसी से मृदुला जायसवाल (बीजेपी), सहारनपुर से फजलुर्रहमान (बीएसपी), गोरखपुर से सीताराम जायसवाल (बीजेपी), लखनऊ से संयुक्ता भाटिया (बीजेपी), कानपुर से प्रमिला पांडेय (बीजेपी), गाजियाबाद से मुन्नी चौधरी (बीएसपी), आगरा से दिगंबर सिंह (बीएसपी), इलाहाबाद से अभिलाषा गुप्ता (बीजेपी), बरेली से उमेश गौतम (बीजेपी), मुरादाबाद से विनोद अग्रवाल (बीजेपी), अलीगढ़ से मोहम्मद फुरकान (बीएसपी), झांसी से ब्रजेंद्र व्यास (बीएसपी), फैजाबाद से ऋषिकेश उपाध्याय (बीजेपी) आगे चल रहे हैं।

इलाहाबाद नगर निगम में भाजपा से महापौर प्रत्याशी अभिलाषा गुप्ता नंदी आगे हैं। आगरा में स्थानीय निकाय चुनाव डाक मतपत्रों की गिनती में मेयर पद भाजपा के मेयर प्रत्याशी नवीन जैन 115 वोटों से आगे हैं। इसी तरह से लखनऊ में संयुक्ता भाटिया, अलीगढ़ में राजीव अग्रवाल, मुरादाबाद में विनोद अग्रवाल, कानपुर में प्रमिला पाण्डेय तथा सहारनपुर, गाजियाबाद व गोरखपुर में भी भाजपा के प्रत्याशी बढ़त पर हैं। इलाहाबाद नगर निगम में भाजपा से महापौर प्रत्याशी अभिलाषा गुप्ता नंदी आगे हैं। आगरा में स्थानीय निकाय चुनाव डाक मतपत्रों की गिनती में मेयर पद भाजपा के मेयर प्रत्याशी नवीन जैन 115 वोटों से आगे हैं।

इसी तरह से लखनऊ में संयुक्ता भाटिया तथा सहारनपुर, गाजियाबाद व गोरखपुर में भी भाजपा के प्रत्याशी बढ़त पर हैं। गौरतलब हो कि उत्तरप्रदेश में 22, 26 और 29 नवंबर को वोटिंग हुई। इस चुनाव में 16 नगर निगम 198 नगर पालिका और 438 नगर पंचायत के लिए वोट डाले गए। इन नतीजों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की साख से जोड़कर देखा जा रहा है। उन्होंने इन चुनावों में प्रचार की शुरुआत 14 नवंबर को अयोध्या से की थी, एक महीने में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 26 रैलियां कीं, इस दौरान वो सभी 16 ज़िलों में गए जहां नगर निगम चुनाव हुए। 2012 में मेयर चुनाव में बीजेपी ने 12 में से 10 सीटें जीती थीं।

जो रुझान देखने को मिल रहे हैं। उनमें पार्षद के चुनाव में भाजपा से ज्यादा सीटें बसपा, सपा, कांग्रेस और निर्दलीयों की झोली में जा रही हैं। नगरीय क्षेत्रों के यह चुनाव परिणाम भाजपा और योगी के लिए लोकसभा एवं विधानसभा चुनाव के बाद गहरा झटका देने वाले हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper