मेरठ में एक अफवाह से भड़की हिंसा, कई गाड़ियों में तोड़फोड़, 100 से ज्यादा झुग्गियां खाक

मेरठ: उत्तर प्रदेश के मेरठ में पड़ते सदर इलाके में अचानक भड़ी हिंसा के दौरान करीब 100 के करीब झुग्गियां जलकर खाक हो गई और कई लोग घायल भी हो गए। दरअसल ये सारा मामले एक अफवाह से शुरु हुआ। बताया जा रहा है कि मेरठ कैंट के थाना सदर इलाके की मलिन बस्ती में कैंट बोर्ड की टीम पुलिस के साथ अवैध निर्माण हटवाने गई थी और तभी ये बात फैल गई कि बोर्ड और पुलिस की टीम अवैध वसूली के मकसद से पहुंची है।

इसके बाद इलाके के लोगों और पुलिस के बीच कहासुनी शुरू हो गई और बात इतनी बिगड़ गई कि लोगों ने पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया। इसके जवाब में पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। इलाके के लोगों का आरोप है कि इसी दौरान पुलिस की टीम ने ही बस्ती में आग लगा दी। इसके बाद झुग्गियों में मौजूद गैस सिलेंडरो के फटने से यहां करीब 100 झुग्गियां जल कर खाक हो गई। आग पर काबू पाने के लिए आसपास की जिलों से फायर ब्रिगेड की मदद ली गई। घंटो की मशक्कत के बाद आग पर तो काबू पा लिया गया, लेकिन तब तक काफी नुकसान हो चुका था। इस आग में एक धर्मिक स्थल सहित कई झुग्गियां जलकर खाक हो गई।

लखनऊ में ड्राई फ्रूट बेच रहे कश्मीरी युवक को पीटा, Video बनाकर सोशल मीडिया पर किया वायरल

इसके बाद गुस्साई भीड़ सड़कों पर पहुंच गई और सड़क को जाम कर दिया और कई वाहनों के साथ तोड़फोड़ की। मामला बढ़ता देख आस-पास के इलाकों से पुलिस बल को बुला कर तैनात कर दिया गया और एनडीआरएफ की टीम भी मौके पर पहुंच गई। इस हंगामे में पुलिसकर्मियों और कई स्थानीय लोगों के घायल होने की खबर है। हिंसा के दौरान पुलिस के हथियार और वायरलेस को भी छीने जाने का आरोप है। फिलहाल इस बात की जांच चल रही है कि आखिरकार आग कैसे और किसने लगाई। फिलहाल प्रशासन ने इलाके की इंटरनेट सेवा को कुछ देर के लिये बंद कर रखा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper