मेरठ में दलितों ने मचाया जमकर बवाल, बस और पुलिस चौकी फूंकी

मेरठ: अपने उत्पीड़न के आरोप लगाकर सोमवार को दलित समाज ने जमकर बवाल मचाया। शहर से बाहर निकलने वाले सारे मार्गों को जाम कर दिया गया। इस दौरान कई वाहनों में आग लगा दी गई। शोभापुर पुलिस चौकी को फूंक दिया गया। पुलिस और मीडियाकर्मियों पर पथराव किया गया। शहर के भीतर हिस्सों में भी लोगों को रोका गया।

सोमवार सुबह से ही दलित समाज के लोगों ने मेरठ शहर से निकलने वाले मार्गों पर जाम लगाना शुरू कर दिया। एनएच-58 बाईपास पर बागपत रोड, रोहटा रोड, सरधना रोड, मोदीपुरम, मवाना रोड, किला परीक्षितगढ़ रोड आदि मुख्य मार्गों पर दलितों ने जाम लगा दिया। कंकरखेड़ा में जाम से निकलने की कोशिश करने वाले लोगों को दलितों ने जमकर पीटा। यहां पर शोभापुर पुलिस चैकी में दलितों ने आग लगा दी। दो बसों और कई कारों को भी आग के हवाले कर दिया गया। इसके बाद रोहटा रोड, कंकरखेड़ा में दलितों ने लोगों पर पथराव कर दिया। इस दौरान पुलिस और मीडियाकर्मियों पर भी पत्थर बरसाए गए। पुलिस ने लाठीचार्ज करके हालात को संभालने की कोशिश की।

एसएसपी ने संभाला मोर्चा

शहर में जगह-जगह बवाल मचने पर एसएसपी मंजिल सैनी दहल ने मोर्चा संभाला और सभी स्थानों पर भारी पुलिस बल रवाना कर दिया गया। एसपी सिटी मान सिंह चैहान और एसपी देहात राजेश कुमार ने हालात को काबू करने के लिए बवाल करने वालों पर हवाई फायरिंग भी की। एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार ने पुलिस को हालात पर काबू पाने के निर्देश दिए। लखनउ से पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने भी मेरठ के एसएसपी से हालात की जानकारी ली।

दलितों के साथ मुस्लिम भी शामिल

मुख्य मार्गों पर बवाल के कारण कार और दोपहिया वान सवारों ने शहर के बाहर की काॅलोनियों में से निकलना शुरू कर दिया। इन अंदरूनी रास्तों पर दलितों ने रास्ते जाम किए हुए थे। दलितों के साथ डंडाधारी मुस्लिम युवक दिखाई दे रहे थे। इससे दलित और मुस्लिम गठजोड़ की आशंका को बल मिल रहा था।

विवि में तोड़फोड़ और आगजनी

दलित समाज के युवकों ने चैधरी चरण सिंह विवि में भी जमकर तोड़फोड़ की और बैनर आदि फाड़कर आग लगा दी। इसके बाद विवि के बाहर गेट पर जाम लगा दिया। सभी युवा जय भीम के नारे लगा रहे थे। इसके साथ ही शहर के अंदरूनी हिस्सों में बड़ी संख्या में ट्रैक्टर-ट्रालियों, छोटे ट्रकों में सवार दलितों ने जुलूस निकाले और दुकानों को बंद कराने का प्रयास किया।

दूर-दूर तक दिखाई नहीं दी पुलिस

शहर के अंदरूनी हिस्सों में दलितों के जुलूस को रोकने के लिए पुलिस दूर-दूर तक दिखाई नहीं दे रही थी। हजारों की संख्या में दलित समाज के लोगों ने जुलूस निकाला और कचहरी की ओर निकल गए। इससे सड़कों पर निकलने वाले लोगों में इससे दहशत दिखाई दी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper