मेरा भी हो सकता है रेप या मर्डर, कठुआ गैंगरेप पीड़िता की वकील ने जताई आशंका

नई दिल्ली: कठुआ गैंगरेप पीड़िता का केस लड़ रहीं वकील दीपिका सिंह राजवंत ने कहा है कि उन्हें जान का खतरा है। जब से उन्होंने कठुआ गैंगरेप पीड़िता का मुकदमा लड़ने की पहल की है, तब से मेरा सामाजिक बहिष्कार कर दिया गया है। दीपिका ने कहा कि मुझे धमकियां दी जा रही हैं। उन्होंने आशंका जताई कि मेरा भी रेप हो सकता है या हत्या कराई जा सकती है। दीपिका सिंह राजवंत ने कहा, ‘मैं खुद नहीं जानती।

मैं होश में नहीं हूं। मेरा रेप हो सकता है। मेरी हत्या हो सकती है। शायद मुझे कोर्ट में प्रैक्टिस भी नहीं करने दिया जाए। उन्होंने कहा मुझे एकदम अलग कर दिया है। मैं नहीं जानती कि अब मैं यहां कैसे रहूंगी। उन्होंने बताया कि उन्हें हिंदू विरोधी कहते हुए सभी ने उनका बहिष्कार कर दिया है। इसके अलावा दीपिका ने कहा कि अपनी और परिवार की सुरक्षा के लिए वह सुप्रीम कोर्ट से सुरक्षा की मांग करेंगी। उन्होंने कहा मैं इस बारे में सुप्रीम कोर्ट को बताऊंगी। मैं बहुत बुरा महसूस कर रही हूं और यह निश्चित रूप से दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा आप मेरी दुर्दशा की कल्पना कर सकते हैं, लेकिन मैं न्याय के साथ खड़ी हूं और हम सब आठ साल की बच्ची के लिए न्याय चाहते हैं।

इससे पहले बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने जम्मू-कश्मीर में पुलिस को चार्जशीट फाइल करने से रोकने वाले वकीलों की जांच के लिए एक पैनल का गठन किया है। इस मामले में गैंगरेप करने वाले आरोपियों के अलावा वकीलों पर भी एक एफआईआर दर्ज हुई थी। आरोप है कि उन्होंने मामले में आरोपियों का बचाव करने के लिए प्रक्रिया को प्रभावित करने की कोशिश की। बता दें, गैंगरेप को लेकर जम्मू-कश्मीर की सियासत भी नए मोड़ पर खड़ी है।

इस मामले में कथित रूप से आरोपियों का समर्थन करने वाले जम्मू-कश्मीर सरकार के दो मंत्रियों (चौधरी लाल सिंह और चंद्र प्रकाश गंगा) का इस्तीफा मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने मंजूर कर लिया है। राज्य में पीडीपी-बीजेपी की साझा सरकार है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper