मै किसी से डऱता नही: राजभर

लखनऊ ब्यूरो। भासपा के अध्यक्ष और कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने मंगलवार को कहा कि मैं शेर हूं, कोई कुत्ता बिल्ली नहीं। उन्होंने कहा कि मै किसी से नहीं डरता और धमकाने से काम नहीं चलेगा। यह गलत है, मैं इसका विरोध करता हूं, प्रदेश के अफसर मनमानी कर रहे हैं। गरीबों, दलितों और पिछड़ों की नहीं सुनी जा रही है। आवास पात्रों को राशन कार्ड नहीं मिल रहा है।

सुहेल देव भारतीय समाज पार्टी के प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक को सम्बोधित करते हुए ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि भासपा की इस बैठक में पास होने वाले प्रस्तावों को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को देंगे। उन्होंने कहा कि अति पिछड़ों को 27 फीसदी आरक्षण मिलना चाहिए। मेरा मकसद सरकार में रहते हुए व्यवस्था को ठीक करना है।

राजभर ने कहा कि इसका उदाहरण फूलपुर और गोरखपुर में लोग देख चुके है। बीजेपी के लोग कह रहे कि राजभर समुदाय में पार्टी ने नेतृत्व विकसित किया है, इसलिए ओमप्रकाश नाराज है। इस जवाब पर राजभर ने पलटवार करते हुए कहा कि अखिलेश यादव और मायावती को ओबीसी और दलित राजनीति में विकल्प देने का दावा करना सूरज को रौशनी दिखाने जैसा है। कोई ओम प्रकाश राजभर का विकल्प नहीं हो सकता है।

राजभर ने कहा कि सरकार के विरोध पर कहा कि मैं सरकार में रह कर सरकार की कमी बता रहा हूं। इस बात को अमित शाह और योगी भी स्वीकार करते है कि योजनाओं का लाभ गरीबों को नहीं मिल रहा। बैठक के एजेंडे पर राजभर ने कहा कि आरक्षण के मुद्दे पर विचार करने से नहीं काम करना होगा। भर्तियां रोककर पहले आरक्षण का फैसला हो। बैठक का एजेंडा 10 तारीख को अमित शाह के साथ होने वाली बैठक में रखेंगे। वहीं मंत्रिमंडल के विस्तार पर राजभर ने दावा करते हुए कहा कि मुझे मंत्री पद और मंत्रालय का लालच नहीं है, मैं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मंत्रालय मांगने नहीं गया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper