मोदीकेयर योजना बंगाल में नहीं चलेगी, सीएम ममता का इसमें कोई इंटरेस्ट नहीं

अखिलेश अखिल

लखनऊ ट्रिब्यून दिल्ली ब्यूरो: दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थकेयर योजना की जब हालिया बजट में वित्तमंत्री अरुण जेटली ऐलान कर रहे थे ,संसद की साँसे थम गयी थी। इतनी बड़ी योजना आज से पहले कभी भी इस देश में आम लोगों के लिए शुरू नहीं की गयी थी और खासकर स्वास्थ्य को लेकर। देश के 50 करोड़ लोगों को इस योजना से लाभ पहुंचाने की बात कही गयी। खूब तालियां बजी। किसी ने कहा चुनावी जुमला तो किसी ने कहा ग्रामीण भारत में बीजेपी को पहुंचाने की रणनीति। किसी और ने यह भी कहा कि अगर ऐसा ऐसा हो जाय तो देश के स्वास्थ्य का कायाकल्प हो जाए। इस योजना को मीडिया वालों ने मोदी केयर के नाम से प्रचारित -प्रसारित किया।

अब इस योजना में पलीता लगता दिख रहा है। पश्चिम बंगाल मि ममता बनर्जी सरकार इस योजना से अलग होने का ऐलान किया है। बंगाल सरकार को इस योजना में कोई ख़ास नहीं दिख रहा। इस तरह का निर्णय करने वाला बंगाल पहला राज्य बन गया है। खबरों के अनुसार पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि राज्य सरकार अपनी मेहनत से जुटाए संसाधनों को इस कार्यक्रम में लगाकर बर्बाद नहीं करेंगे।

राज्य के कृष्णानागर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए ममता ने कहा कि केंद्र सरकार एक ऐसी स्वास्थ्य योजना लेकर आई है, जिसमें 40 फीसदी फंड राज्यों को देना होगा। उन्होंने कहा कि सवाल ये उठता है कि राज्य सरकारे इस कार्यक्रम के लिए पैसा क्यों खर्च करे, जब राज्य सरकार के पास पहले से ही ऐसा कार्यक्रम है। राज्य के पास अपने साधन है वो अपनी योजना चलाएंगे। ममता ने आगे कहा कि बंगाल की सरकार ने तो पहले से ही अस्पताल में भर्ती और उपचार को पहले से ही मुफ्त किया हुआ है।

जाहिर है कि मोदी केयर के नाम पर अब राजनीति शुरू हो गयी है। देखना होगा कि केंद्र सरकार की यह योजना कहाँ तक सफल हो पाती है क्योंकि पैसे के अभाव में अधिकतर राज्य परेशान है और हर बात के लिए केंद्र की तरफ देख रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper