मोदी का आरोप, छुट्टियां मनाने के लिए आईएनएस विराट का इस्तेमाल करते थे राजीव गांधी

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री व वरिष्ठ भाजपा नेता नरेंद्र मोदी ने बुधवार को आरोप लगाया कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने विमान वाहक पोत आईएनएस विराट और इसके कर्मियों का इस्तेमाल निजी छुट्टियां मनाने के लिए किया था जिस दौरान उनके विदेशी ससुरालवाले उनके साथ थे। राष्ट्रीय राजधानी में मोदी ने अपनी पार्टी के प्रत्याशियों के पक्ष में आयोजित एक चुनावी रैली में यह बात कही। उन्होंने कांग्रेस नेताओं के इन आरोपों के जवाब में यह बात कही कि रक्षा बलों का भाजपा राजनैतिकरण कर रही है।

कांग्रेस नेताओं ने पाकिस्तान के आतंकी कैंप पर एयर स्ट्राइक के बाद भाजपा नेताओं के ‘मोदी की सेना’ के बयानों के हवाले से यह मुद्दा उठाया है। मोदी ने कहा, “किसने रक्षा बलों के साथ निजी संपत्ति जैसा व्यवहार किया है? क्या आपने कभी सुना है कि कोई परिवार छुट्टी मनाने के लिए युद्धपोत से गया हो? ऐसा हमारे देश में हुआ है। नामदार परिवार ने आईएनएस विराट का इस्तेमाल निजी संपत्ति की तरह से किया था। उन्होंने इसका अपमान किया।”

पीठ में छुरा घोंपने वाले नीतीश को जनता मजा चखाएगी : लालू यादव

मोदी ने आरोप लगाया कि आईएनएस विराट को उसकी तैनाती वाली जगह से हटाकर राजीव गांधी के ससुराल के लोगों को लाने के लिए भेजा गया और उन्हें इसी युद्धपोत से एक द्वीप पर भेजा गया। द्वीप पर इनकी आवभगत करने वाला कोई नहीं था, इसलिए सारा इंतजाम युद्धपोत के कर्मियों ने किया। उन्होंने कहा कि यह छुट्टी कोई एक दिन में नहीं खत्म हुई बल्कि दस दिन तक चली। इस दौरान युद्धपोत वहीं खड़ा रहा।

मोदी ने कहा कि ‘क्या युद्धपोत पर विदेशियों की मौजूदगी देश की सुरक्षा से खिलवाड़ नहीं है? या फिर इसकी इजाजत बस इसलिए दे दी गई कि वह राजीव गांधी थे?’ उन्होंने दिल्ली में कांग्रेस के शासनकाल में 1984 में हुए सिख विरोधी दंगों का मुद्दा भी उठाया। दिल्ली में 12 मई को मत डाले जाएंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper