मोदी ने खाया लिट्टी चोखा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 19 फरवरी, 2020 को सबको चौंकाते हुए अल्पसंख्यक मंत्रालय द्वारा दिल्ली के राजपथ पर आयोजित ‘हुनर हाट’ पहुंच गए, जहां उन्होंने न सिर्फ कई कलाकारों के साथ मुलाकात की बल्कि ‘लिट्टी-चोखा’ खाया और कुल्हड़ में चाय भी पी। मोदी ‘हुनर हाट’ पर करीब 50 मिनट तक रहे। मोदी ने ‘हुनर हाट’ में लिट्टी-चोखा खाते अपनी फोटो सोशल मीडिया पर पोस्ट भी की। ‘लिट्टी-चोखा’ खाने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने 120 रुपए का भुगतान भी किया। मोदी की ‘हुनर हाट’ की इस यात्रा को बिहार में जल्द होने वाले विधानसभा चुनावों से जोड़कर देखा जा रहा है।

ऐसा माना जा रहा है कि लिट्टी-चोखा खाकर मोदी ने बिहार के मतदाताओं को साधने की कोशिश की है। यही वजह है कि लालू के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव ने मोदी पर अपने ठेठ अंदाजा में तंज कसने में देर नहीं की। तेज प्रताप ने ट्वीट किया-‘कतनो खईब? लिट्टी चोखा, बिहार ना भुली राउर धोखा..! हालांकि इसके बचाव में भाजपा और उसके सहयोगी दलों के नेताओं ने भी जवाब दिया। खैर, ‘लिट्टी-चोखा’ बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश और झारखंड में बेहद लोकप्रिय है। लिट्टी-चोखा को बिहार की सिग्नेचर डिश का दर्जा हासिल है।

लिट्टी-चोखा ऐसी चीज है जिसे आप सुविधा और उपलब्ध सामग्री के हिसाब से जैसे चाहे वैसे बना सकते हैं। अगर घी है, तो अच्छी बात है, अगर अचार और चटनी है, तो और भी अच्छा है, अगर नहीं भी हैं, तो कोई बात नहीं। इसीलिए लिट्टी-चोखा विशुद्ध रूप से आम आदमी या गरीब आदमी का भोजन कहा जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper