मोदी-राहुल की मंदिर यात्रा पर, सिसोदिया का तंज : काश सरकारी स्कूल जाते

नई दिल्ली: गुजरात विधानसभा चुनाव में प्रचार के दौरान नेताओं में इस बार मंदिरों के दर्शन का ट्रेंड दिख रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी लगातार प्रचार शुरु करने से पहले मंदिरों के दर्शन कर रहे हैं। इसी पर दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने गुरुवार को तंज कसा है। सिसोदिया ने अपने तंज में मोदी और राहुल को कहा कि अगर चुनावों से ठीक पहले मंदिर-दर्शन की जगह सरकारी स्कूलों के दर्शन की राजनीतिक परंपरा होती तो देश के हर बच्चे को आज बेहतरीन शिक्षा मिल रही होती। लेकिन देश में मंदिर जाने की परपंरा रही हैं स्कूल जाने की नहीं।

गौरतलब है कि गुजरात विधानसभा के मद्देनजर चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी लगातार प्रदेश के प्रसिद्ध मंदिरों में जाकर पूजा अर्चना कर रहे हैं। पिछले दिनों मोदी ने प्रदेश के प्रसिद्ध द्वारकाधीश और सोमनाथ मंदिर सहित अन्य मंदिरों में पूजा की है। दूसरी तरफ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी अपनी हर यात्रा के दौरान मंदिरों के दर्शन कर रहे हैं। गुरुवार को भी राहुल गांधी गोपीनाथ मंदिर जाएंगे।

इससे पहले बुधवार को राहुल ने सोमनाथ मंदिर के दर्शन किए थे। बता दें कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के बुधवार को सोमनाथ मंदिर दौरे से एक बड़ा विवाद पैदा हो गया। बीजेपी ने उनकी आस्था को लेकर सवाल उठाए,जबकि कांग्रेस ने बीजेपी पर ओछी राजनीति करने का आरोप लगाया। कांग्रेस ने कहा कि राहुल गांधी हिंदू भक्त हैं। यह विवाद राहुल गांधी के मीडिया प्रभारी मनोज त्यागी के गैर हिंदुओं के लिए बने रजिस्टर में हस्ताक्षर करने से पैदा हुआ।

इसके बारे में कांग्रेस ने कहा है कि इस रजिस्टर में बाद में राहुल गांधी और अहमद पटेल का नाम जोड़ा गया। इस दौरे के कुछ समय बाद सोशल मीडिया पर मनोज त्यागी के हस्ताक्षर वाला रजिस्टर घूमने लगा,जिसमें राहुल गांधी व अहमद पटेल का नाम बाई तरफ था। इस कहानी के साथ बीजेपी सामने आई कि राहुल गांधी ने खुद को एक गैर-हिंदू घोषित कर दिया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper