मोदी सरकार ‘अटल स्मारक’ की स्थापना कर सकती है

दिल्ली ब्यूरो: भारतीय राजनीति के नायक और करोडो लोगों के प्रेरणाश्रोत अटल जी हमारे बीच तो नहीं रहे लेकिन भारतीय राजनीति में उंनके योगदान को सदा याद किया जाता रहेगा। इधर सूत्रों से जानकारी मिल रही है कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के अंतिम संस्कार स्थल को ही उनके स्मारक में तब्दील कर सकती है। वाजपेयी का अंतिम संस्कार शुक्रवार (17 अगस्त) शाम दिल्ली के राष्ट्रीय स्मृति स्थल पर होना है। लंबी बीमारी के बाद 16 अगस्त को उनका निधन हो गया था।

खबर के मुताबिक केंद्रीय मंत्रिमंडल की गुरुवार को हुई बैठक में ‘अटल स्मारक’ के निर्माण पर चर्चा तो नहीं हुई। इस बैठक में केवल पूर्व प्रधानमंत्री को सिर्फ श्रद्धांजलि ही दी गई। लेकिन स्मारक के बाबत फैसला हो चुका है। उसके निर्माण को जल्द ही मंज़ूरी दी जा सकती है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘वाजपेयी असाधारण क़द के नेता थे। इस देश के लिए उनका जो योगदान रहा उसे देखते हुए उनकी याद में कुछ न कुछ किया जाना तय है।’

इसके बाद अटकलें लगाई जा रही हैं कि सरकार राष्ट्रीय स्मृति स्थल पर ही ‘अटल स्मारक’ की स्थापना कर सकती है। यहां दिलचस्प बात ये है कि साल 2000 में केंद्र में जब अटल बिहारी वाजपेयी की ही सरकार थी तब फैसला किया गया था कि अब दिल्ली में किसी विशिष्ट अतिथि की समाधि का निर्माण नहीं किया जाएगा। बाद में 2013 में केंद्र की यूपीए सरकार ने एक राष्ट्रीय स्मृति स्थल विकसित करने का फैसला किया।

राष्ट्रीय स्मृति स्थल ख़ास तौर पर राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री जैसे पदों पर रहे राष्ट्रीय नेताओं के अंतिम संस्कार के लिए विकसित किया गया है। इसकी स्थापना 2015 में हुई थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper