मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों का पर्दाफाश करेगा भारत बंद

लखनऊ। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष व सांसद राजबब्बर ने कहा है कि पेट्रोलियम पदार्थो की कीमतों में बेतहाशा बढ़ोतरी व राफेल विमान डील घोटाले के विरोध में सोमवार को कांग्रेस की ओर से आहूत भारत बंद केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों का पर्दाफाश करेगा।श्री बब्बर ने रविवार को यहां पार्टी के प्रदेश मुख्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में कहा कि बंद को सफल बनाने के लिये व्यापार संगठनों और ट्रांसपोर्टरों समेत अन्य प्रभावित तबकों ने अपना समर्थन देने का भरोसा दिया है।

पार्टी की जिला और शहर इकाइयों से बंद को शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न कराने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि सेवादल, महिला और युवा कांग्रेस, एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं को बंद सफल बनाने में जुटने के लिए कहा गया है। प्रत्येक जिले में एक वरिष्ठ नेता बतौर पर्यवेक्षक रहेगा, जो बंद को व्यवस्थित करने का काम करेगा। व्यापारियों, श्रमिकों, छात्रों और किसानों की सहभागिता बंद को सफल बनाने में महत्वपूर्ण होगी। उन्होंने कहा कि केन्द्र की गलत आर्थिक नीतियों के कारण देश की जनता महंगाई के बोझ तले दबी हुई है। भाजपा को अपनी इस मनमानी का खमियाजा उठाना पडेगा। जनता अब बर्दाश्त करने के मूड में नहीं है। उन्होंने कहा कि देश में महंगाई चरम पर है और सरकार सिर्फ उद्योगपतियों की चिन्ता में है।

उनको कैसे ज्यादा से ज्यादा फायदा पहुंचाया जाए, उसका पूरा ध्यान इसी पर केन्द्रित है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि बड़ा ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में सिर्फ और सिर्फ चुनाव पर र्चचा हुई। आम जनता जो पेट्रोल, डीजल, गैस की महंगाई से परेशान हैं, इस पर कोई भी र्चचा न होना भाजपा की जनविरोधी मानसिकता दर्शाता है। श्री बब्बर ने कहा कि सपा और बसपा समेत अन्य विपक्षी दल भी कांग्रेस को इस आंदोलन में मूक समर्थन दे रहे हैं। सरकार के तानाशाही रवैये से आमजन बुरी तरह त्रस्त है। कांग्रेस अहिंसक आन्दोलन में ही विास करती है। इस बंद से भाजपा सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper