मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास पर संकट के बादल

दिल्ली ब्यूरो: संसद में गतिरोध के कारण आज भी लोकसभा में मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव नहीं लाया जा सका। वाईएसआर कांग्रेस और तेलगु देशम पार्टी ने मोदी सरकार के खिलाफ अपना अविश्वास प्रस्ताव लाने पर पूरा जोर दिया लेकिन लेकिन संसद में गतिरोध के चलते इस पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। हंगामे के चलते जहां राज्यसभा पूरे दिन के लिए स्थिगत कर दी गई वहीं लोकसभा 12 बजे तक स्थगित की गई है।

उम्मीद की जा रही है कि लोक सभा की कार्यवाही आगे भी बाधित रहेगी। उधर,संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि सदन में विश्वास स्थापित करने के लिए उनके पास पर्याप्त सदस्य हैं। उल्लेखनीय है कि इससे पहले वाईएसआर कांग्रेस के वाई.वी. सुब्बा रेड्डी ने लोकसभा सचिवालय को संशोधित कार्य सूची में उनका नोटिस रखने के लिए पत्र लिखा है।

तेदेपा ने भी अविश्वास प्रस्ताव के लिए नोटिस दिया है। पिछले सप्ताह नोटिस नहीं लिए जाने पर अनंत कुमार ने दलील दी थी कि सदन में आसन के पास जाकर कई दलों के सदस्यों की नारेबाजी के कारण सदन में व्यवस्था नहीं बन पाने के कारण ऐसा नहीं हो पाया। विधायी कार्यों पर सरकार के साथ अक्सर सहयोग करने वाली तेलंगाना राष्ट्र समिति और अन्नाद्रमुक कई मुद्दों पर विरोध कर रही है इसलिए इस पर अनिश्चितता ही है कि कल व्यवस्था बन पाएगी।

अविश्वास प्रस्ताव नोटिस के लिए सदन में कम से कम 50 सदस्यों का समर्थन चाहिए। सरकार ने भरोसा जताया है कि नोटिस स्वीकार कर लिए जाने पर भी लोकसभा में उसकी संख्या बल के कारण प्रस्ताव औंधे मुंह गिर जाएगा। लोकसभा में मौजूदा सदस्यों की संख्या 539 है और सत्तारूढ़ भाजपा के 274 सदस्य हैं। यह बहुमत से अधिक है और पार्टी को कई घटक दलों का समर्थन भी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper