मोबाइल रिपेयरिंग के लिये देते समय इस बात का ध्यान ज रूर रखें ,नहीं तो आप फंस सकते हैं

लखनऊ: अगर आप मोबाइल सुधरवाने मोबाइल शॉप पर जा रहे हैं तो हो सावधान जाइए क्योकि मोबाइल शॉप संचालक आपके मोबाइल आपकी पर्सनल जानकारियां चोरी कर सकते हैं

इसलिए आप अपने मोबाइल के सिम कार्ड को फोन से निकाल ले तथा यदि फोन मे कोई मेमोरी है जिसमे आपका डेटा हो उसे निकाल ले नहीं तो आप बहुत बुरे तरीके से फस सकते हैं ऐसे केस आये दिन सुनने को मिलते रहते हैं यह बात उन लोगों के लिये और भी आवश्यक हो जाती है जो नेट बैकिंग या अनलाइन बैकिंग से जुडे हुये है यदि आप आनलाईन ट्राजेक्शन करने के लिये पेटीएम ,फोनपे गूगल पे या अन्य प्लेटफार्मो का यूज करते हैं.

तो उन ऐप्लिकेशन मे टू स्टेप वेरिफिकेशन या थ्री स्टेप वेरिफिकेशन का स्तेमाल करें जिसमे सबसे पहले मोबाइल मे कठिन पिन या पासवर्ड लगा के रखे पैटर्न भी लगा सकते हैं लेकिन यह कम सुरक्षित होता है यदि फोन आपके घर की बेटियों या बहनों का है जिसे आपको रिपेयरिंग के लिये देना है तो फोन.का सारा डाटा गूगल ड्राइव पर सेव करके मोबाइल स्टोर से डीलिट कर दे इस डेटा को आप कभी भी किसी भी फोन मे इमेल आईडी के द्वारा एक्सेस कर सकते हैं।

जिसकी जांच चल रही कोतवाली पुलिस ने बालाघाट नगर के गौली मोहल्ला स्थित अरिहंत मोबाइल शॉप के एक संचालक को गिरफ्तार किया जो उसकी दुकान में सुधरने आये मोबाइल फोन से आपत्तिजनक फोटो और वीडियो चुराकर लोगों को ब्लैकमेल करता था मामले का खुलासा करते हुए सीएसपो ने बताया उसने अरिहंत मोबाइल शॉप जाकर अपना मोबाइल फोन सुधरने दिया था.

जिसके कुछ दिन बाद उसके फोन पर उसके ही कुछ आपत्तिजनक फोटो और वीडियो वाट्सअप्प पर भेजकर अनैतिक मांग की जा रही थी। शिकायत पर तुरन्त कार्यवाही करते हुए दुकान संचालक अंकुश जैन को गिरफ्तार किया गया और उसकी शॉप से कुछ इलेक्ट्रॉनिक समान जप्त किया है जिसकी जांच की जा रही है जिससे अन्य मामलों का खुलासा हो सकता है

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper