मौलाना कल्वे जव्वाद पर यौनशोषण व अप्राकृतिक दुराचार का आरोप

लखनऊ: वरिष्ठ शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद के घर पर काम करने वाली दो लड़कियों व उनके एक पुत्र ने मौलाना जव्वाद पर कथितरूप से यौनशोषण व अप्राकृतिक दुराचार का गम्भीर आरोप लगाया है। राजधानी के प्रेस क्लब में मंगलवार को सआदतगंज निवासी नौशाद अली नाम का यह शख्स अपनी एक बेटी व पुत्र के साथ पत्रकारों से मुखातिब हुआ और अपना दर्ज बयान कर इंसाफ और परिवार के लोगों की जान-माल की सुरक्षा की मांग की।

नौशाद अली ने कल्बे जवाद पर आरोप लगाते हुए कहा कि मौलाना जव्वाद के घर मेरी पत्नी गृहकार्य करने जाती थी। मेरी पत्नी के बीमार होने पर जब मेरी बड़ी बेटी घरेलू काम करने जाने लगी तब मौलाना जव्वाद ने मेरी बेटी का यौन शोषण करना शुरू कर दिया। मौलाना ने मेरे बेटे को रोजगार के नाम पर दो-दो लाख रुपये के चेक देकर उसका मुंह बंद रखने की कोशिश की। रुपयों का पता चलने पर जब मैंने बेटी से पूछा तो उसने कहा कि ये पैसे मौलाना जव्वाद ने दिए हैं और उन्होंने मुझे अपनी बेटी बनाया है। नौशाद ने बताया कि तब भी मुझे यकीन नहीं हुआ और मैंने तब अपनी छोटी बेटी को बड़ी बेटी के साथ मौलाना के घर भेजना शुरू कर दिया।

नौशाद की छोटी बेटी ने बताया कि जब वह बहन के साथ मौलाना कल्बे जवाद के घर गई तब मौलाना जव्वाद मेरी बड़ी बहन का हाथ पकड़ कर उसके साथ अश्लील हरकतें करने लगे। यह सब देखकर मैं घबरा गई और भागने लगी। तब मौलाना जव्वाद ने मेरा हाथ पकड़ कर जबरन मुझे अपनी गोदी में बिठाकर अश्लील हरकत करने का प्रयास करने लगे। मेरे बहुत कहने पर उन्होंने मुझे छोड़ा। नौशाद ने कहा कि तब मैंने मौलाना जव्वाद से उनके घर जाकर विरोध जताया तो मौलाना ने जान माल की धमकी दी। वजीरगंज थाने में जब मैंने एफ आई आर दर्ज करवाई तब मेरी लड़की मुझे मिल सकी। उन्होंने कहा कि अब मेरी बड़ी लड़की मौलाना कल्बे जवाद की गिरफ्त में हैं और मुझ पर ही ब्लैकमेलिंग का आरोप लगा रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper