मौलाना नदवी पर 5 हजार करोड़ की घूस और राज्यसभा सीट मांगने का आरोप

लखनऊ ट्रिब्यून दिल्ली ब्यूरो: इस राजनीति के क्या मायने है, कुछ कहा नहीं जा सकता। लेकिन इतना जरूर है कि इस राजनीति में कोई खेल है। अमरनाथ मिश्रा ने गीता की कमस खाकर मौलाना नदवी पर अयोध्या में राममंदिर बनाने के लिए पांच हजार करोड़ की रिश्वत के साथ-साथ राज्यसभा की सदस्यता मांगने का गंभीर आरोप लगाया है।

इतना ही नहीं मौलाना नदवी पर मंदिर के पक्ष में प्रस्ताव देने के लिए 200 एकड़ जमीन मांगने का आरोप भी लगा है। हालांकि नदवी इन आरोपों से इंकार कर रहे हैं। अमरनाथ मिश्र के आरोपों से भड़के मौलाना नदवी ने कहा, ”कुछ लोग हैं जो देश की फिजा को ठीक नहीं होने देना चाहते हैं। अमरनाथ मिश्रा के आरोप निराधार हैं। मेरे पास दौलत की कोई कमी नहीं है और जहां तक मस्जिद बनाने की बात है तो मेरे एक इशारे पर अरबों रुपये चंदा जमा हो जाएंगे। “

मौलाना सलमान नदवी पर गंभीर आरोप लगाने अमरनाथ मिश्रा का दावा है कि एक दिन पहले भी नदवी का मैसेंजर उनके पास आया था। अमरनाथ मिश्रा अब भी अपने आरोपों पर अड़े हुए हैं। उनका कहना है कि नदवी के इंकार करने से कुछ नहीं होगा क्योंकि उनके पास सारे सबूत हैं। आपको बता दें कि यह पहला मामला नहीं है जब मौलाना सलमान नदवी पर आरोप लगे हैं। इससे पहले सांसद असदुद्दीन ओवैसी नदवी पर बीजेपी के इशारे पर काम करने का आरोप लगा चुके हैं।

मस्जिद के मुद्दई हाशिम अंसारी के बेटे इकबाल अंसारी ने कहां की यह लोग सस्ती राजनीति सस्ती लोकप्रियता ,चैनल अपना चेहरा दिखाने और पैसे के लेनदेन से प्रेरित होकर मध्यस्ता करा रहे हैं। ऐसे लोगों पर सरकार को कानूनी कार्रवाई करनी चाहिए इन को प्रतिबंधित करके कड़ी से कड़ी सजा देना चाहिए।

राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास के उत्तराधिकारी कमल नयन दास जी ने स्पष्ट किया कि अब सिर्फ राम मंदिर निर्माण की ही बात होगी। सारे सबूत और गवाह हम कोर्ट में पेश कर चुके हैं जो हमारे हक में हैं। किसी भी समझौते की बात से कोई लेना देना नहीं है और ना ही समझौते को माना जाएगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper