मौसम का मिजाज सुधरा, कम हुआ ठंड का अहसास

नई दिल्ली: इस बार कड़ाके की ठंड ने पूरे देश को कंपकपाया लगभग पूरे दिसंबर से लेकर जनवरी तक ठंड का दौर जारी रहा। फरवरी की शुरुआत में भी ठंड ने कम परेशान नहीं किया। देश के उत्तर पश्चिम राज्यों में कई दिनों तक शीत लहर और सर्द हवाओं ने जीना मुहाल कर रखा था। लगातार कई पश्चिमी विक्षोभ के कारण बारिश से सर्दी का प्रकोप और बढ़ता ही गया लेकिन पिछले कुछ दिनों उत्तर भारत के अधिकांश इलाकों में खिली हुई धूप निकल रही है और तापमान में वृद्धि जारी है। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) की मानें तो फिलहाल पूरे देश में मौसम का मिजाज बेहतर होने वाला है। न्यूनतम तापमान में भी वृद्धि जारी रहेगी। हालांकि एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ के कारण हिमालयी राज्यों में छिटपुट स्थानों पर बारिश और बर्फबारी की संभावना है। सैलानियों के लिए अभी भी पहाड़ पर ऊंचाई वाले स्थानों पर जाना बेहतर रहेगा क्योंकि कई जगहों पर बर्फबारी के आसार हैं। हालांकि उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में तापमान में धीरे-धीरे वृद्धि होने की संभावना है।

भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक 17 से 20 फरवरी के बीच एक और पश्चिमी विक्षोभ आएगा जिससे उत्तर पश्चिम भारत प्रभावित हो सकता है। भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक देश के अधिकांश भागों का मौसम खुशनुमा रहेगा। अगले दो दिनों तक उत्तर-पश्चिम भारत और मध्य भारत में तापमान में 2 से 4 डिग्री की वृद्धि होगी। इसके बाद तापमान स्थिर रहेगा। पूर्वी भारत में भी अगले दो दिनों तक मौसम खुशगवार रहने की उम्मीद है। सिर्फ ओडिशा के कुछ इलाकों में शीत लहर की आशंका जताई गई है। पश्चिमी विक्षोभ का प्रभाव सिर्फ पश्चिमी हिमालय के कुछ इलाकों में देखने को मिलेगा। इन इलाकों में 17 से 20 फरवरी के बीच एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ का असर दिखेगा।

मौसम विभाग के मुताबिक तमिलनाडु के तटीय इलाकों में उत्तरपूर्वी हवाएं चल रही हैं जिसके कारण अगले तीन से चार दिनों तक बारिश की संभावना है। दक्षिण तमिलनाडु के अलावा केरल और लक्षद्वीप में भी बारिश के आसार हैं। इसके अलावा अंडमान निकोबार द्वीप समूह में अगले पांच दिनों तक बारिश के आसार हैं। पश्चिमी विक्षोभ का प्रभाव हिमालयी राज्यों पर देखने को मिलेगा। मौसम विभाग के मुताबिक पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव के कारण 16 फरवरी तक जम्मू-कश्मीर-लद्दाख-गिलगित-बाल्टिस्तान-मुजफ्फराबाद, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में बारिश और बर्फबारी के आसार हैं।

मौसम विभाग के मुताबिक ताजा पश्चिमी विक्षोभ का प्रभाव कमजोर है। इसलिए इसका असर देखने को नहीं मिलेगा। हालांकि 15 से 16 के बीच हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में के कई स्थानों में बर्फबारी की संभावना जताई गई है। आईएमडी के मुताबिक 17 से 20 फरवरी 2022 के बीच एक और पश्चिमी विक्षोभ का प्रभाव देखने को मिलेगा। इससे पश्चिमी हिमालय क्षेत्रों में हल्की बारिश और बर्फबारी की संभावना है। वहीं उत्तर पश्चिम भारत के मैदानी इलाकों में छिटपुट वर्षा की संभावना है। हालांकि स्काईमेटवेदर के अनुसार राजधानी दिल्ली और आसपास में 19 फरवरी से मौसम का मिजाज एक बार बदलने की संभावना है। स्काईमेटवेदर के अनुसार 19 फरवरी को आंशिक रूप से बादल छा सकते हैं और 20 से 22 फरवरी के बीच बारिश भी हो सकती है। इस दौरान न्यूनतम तापमान में भी कमी की आशंका है। 22 फरवरी को पंजाब, हरियाणा, हिमाचल में बारिश के साथ-साथ ओलावृष्टि की आशंका जताई गई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper