…यहाँ के लखपति मांगते हैं भीख, यह है बड़ी वजह

अभी तक आपने यही सुना होगा की भिखारी ही भीख मांगते है लेकिन एक ऐसी खबर सुनकर आप हैरान हो जायेंगे| खबर है मध्य प्रदेश के बैतूल जिले की जहाँ भिखारी नहीं बल्कि करोड़पति भीख मांगते नज़र आते हैं| यह सुनकर आपको आश्चर्य जरुर हुआ होगा लेकिन यह सच है|

दरअसल, बैतूल जिले में एक गाँव है रानाडोंगरी| इस गाँव की खास बात यह है कि इनके पास सारीसुख सुविधाएं होने की बावजूद यह लोग भीख मांगते हैं| बताया जाता है कि वसदेवा जाति के लोगों में भीख मांगने का पुश्तैनी रिवाज है। घर का मुखिया अपनी वंश परंपरा को निभाने के लिए भिखारी बनता है।

इस जाति के लोगों का यह मानना है कि इनका मानना है कि अगर ये भीख नहीं मांगेंगे तो इनके पूर्वज और देवता नाराज हो जाएंगे। महिलाएं घर में बच्चों और जानवरों की देखभाल करती हैं और पुरूष दीपावली के बाद भगवान की पूजा करके भीख मांगने के लिए घर से निकल पड़ते हैं और बरसात आते- आते पुनः घर वापस लौट आते हैं|

उसके बाद ये लोग ‘हरदूलाल बाबा’ की पूजा करते हैं। इस बाबा का मंदिर गांव के मध्य में है। चैत्र के महीने में आखिरी मंगलवार के दिन गांव की सभी महिलाएं हाथ में कटोरा लेकर पांच घरों से भीख मांगकर अनाज इकट्ठा करती हैं। इसके बाद हरदूलाल बाबा के मंदिर के पास भीख में प्राप्त अनाज से भोजन बनाती हैं और बाबा को भोग लगाती हैं। पूजा के बाद सभी लोग इसी प्रसाद को ग्रहण करते हैं। इस दिन किसी के घर भोजन नहीं बनता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper