यहां जान-बूझकर पत्नियों को बदसूरत बनाते हैं लोग, जानिए क्यों करते हैं ऐसा बर्ताव

नई दिल्ली: पत्नी की खूबसूरती पर पति अक्सर अपनी जान लुटाया करते हैं लेकिन दुनिया में एक ऐसी भी जगह है जहां के पति जान-बूझकर अपनी पत्नियों को बदसूरत बनाते हैं। म्यांमार के मर्द अपनी पत्नियों को बदसूरत बनाने के लिए ऐसी हरकत करते हैं जिससे किसी की भी रूह कांप जाए। यहां पति अपनी बीवियों के चेहरे पर दर्दनाक और खतरनाक टैटू बनवा देते हैं।

टैटू की स्याही सुअर और गाय की चर्बी, कालिख और पौधों से बनाई जाती है। टैटू बनाने के लिए ये लोग बांस या सींघों का इस्तेमाल करते हैं। औरतों का कहना है कि टैटू बनने में कम से कम एक दिन लग जाता है। इन्हें बनवाते वक्त उन्हें काफी दर्द होता है लेकिन सभी को टैटू बनवाना अनिवार्य है।

टैटू की वजह से कई औरतें संक्रमण का भी शिकार भी हो चुकी हैं। घंटों तक उनके चेहरे से खून निकलता रहता है। फिर भी इनके पतियों को इन पर जरा भी तरस नहीं आता।

क्यों ये पति करते हैं अपनी पत्नियों के साथ ऐसा

यहां ऐसा औरतों को बचाने के लिए किया जाता है। जी हां! जब म्यांमार में राजाओं का शासन था, तब वे लोग कई आदमी और औरतों को अपना गुलाम बनाया करते थे। अपनी पत्नियों को इस जुल्म से बचाने के लिए पति उनके मुंह पर टैटू बनवा देते थे ताकि वो बदसूरत लगें और कोई राजा उन्हें अपने साथ ना ले जाए।

राजाओं के शासन के खत्म होने के बाद यह टैटू फैशन बन गया। इसे खूबसूरती का नया आयाम माना जाने लगा। बाद में औरतें अपनी मर्जी से टैटू बनवाने लगीं। लेकिन म्यांमार की मिलिट्री जनता ने अब इस पर रोक लगा दी है। वहां अब इस प्रथा को मानने पर जुर्माना लगाया जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper