…यहां ट्रकों पर घर लाद कर ले जा रहे हैं लोग, वजह जानकर हैरान रह जायेंगे आप

नई दिल्ली: स्वीडन का किरूना शहर दुनिया में सबसे बड़ी कच्चे लोहे की खदान के लिए मशहूर है। अरबों डॉलर का कारोबार देने वाली इन खदानों का अब विस्तार हो रहा है, जिससे पूरे शहर का धराशायी होने का खतरा बढ़ गया है। ऐसे में स्थानीय प्रशासन ने एक नई तरकीब निकाल ली है। प्रशासन पूरा का पूरा शहर दूसरे जगह शिफ्ट कर रहा है।

किरूना से 3.2 किमी दूर ‘न्यू किरूना’ शहर में 18 हजार रहवासियों को भेजने की कवायद शुरू हो गई। खास बात है कि शहर में पुराने घर भी बसेंगे। कई घरों को तो ट्रक पर रखकर ले जाया गया है। इस शहर में पिछले 40 सालों से लोहा निकाला जा रहा है और यह सिलसिला जारी है। इसी के चलते यहां बने मकानों के ढह जाने का खतरा बढ़ता जा रहा है, क्योंकि जमीन के नीचे सुरंगों ने अपनी जगह बना ली है।

हालांकि सरकार लोगों को भरपूर मुआवजे के साथ दूसरे मकान बनाकर भी दे रही है। इसके अलावा सरकार ने यह भी फैसला लिया है कि यहां बने मकानों को ढहाया नहीं जाएगा। ये मकान वैसे के वैसे ही रहेंगे, जब तक कि अपने आप ढह नहीं जाते, लेकिन सरकार किसी व्यक्ति की जान का रिस्का नहीं लेना चाहती।

हालांकि, कुछ लोगों का अपने घर से इतना लगाव है कि वे यहां की यादों को छोड़ना नहीं चाहते। इसी के चलते कई लोग अपने लकड़ी के बने मकानों को ही अपन साथ ले जा रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper