यहां पर मिला रहस्‍यमयी कुआं, पानी नहीं रोशनी न‍िकलती है

गुवाहाटी: एक जगह ऐसा रहस्‍यमयी कुआं मिला है जिसमें पानी नहीं रोशनी न‍िकलती है। दुन‍ियाभर में इसे व‍िश‍िंग वेल के नाम से जानते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी क‍ि इस कुएं से पानी नहीं बल्कि रोशनी न‍िकलती है। हम ज‍िस कुएं की बात कर रहे हैं वह पुर्तगाल के सिंतारा के समीप स्थित है। यह कुआं क्यूंटा डा रिगालेरिया के पास है। इसकी बनावट अजीबोगरीब है। आपको जानकर हैरानी होगी क‍ि इस कुएं में रोशनी की कोई व्‍यवस्‍था नहीं है लेक‍िन फिर भी इस कुएं की जमीन के अंदर से एक रोशनी निकलती है और बाहर की ओर आती है। कुंए से आने वाली इस रोशनी के रहस्‍य को समझने की काफी कोश‍िशें की गईं लेक‍िन पर‍िणाम शून्‍य ही रहा।

इस कुएं की गहराई चार मंजिला इमारत के बराबर है। यह जैसे-जैसे जमीन के अंदर जाता है वैसे-वैसे ही संकरा होता जाता है। इस कुएं को लेडीरिनथिक ग्रोटा के नाम से जानते हैं। खास बात यह है क‍ि कुएं का आकार उल्‍टे टावर की तरह है। इसलिए इसे द इनवर्टेड टावर सिंट्रा कहा जाता है। दुन‍ियाभर से लोग इस कुएं को देखने आते हैं।

लेडीरिनथिक ग्रोटा कुएं को विशिंग वेल मानने के पीछे एक खास वजह है। पूरी दुन‍ियाभर से लोग यहां आते हैं और अपनी व‍िशेज पूरी करने की दुआएं मांगते हैं। मान्‍यता है क‍ि इस कुएं में अगर स‍िक्‍का डालकर अपनी व‍िशेज कही जाएं तो वह जल्‍दी से जल्‍दी पूरी हो जाती हैं। बता दें क‍ि इस कुएं का निर्माण पानी संगृह‍ित करने के बजाय गोपनीय दीक्षा संस्कारों के लिए किया गया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper