यहां पूर्णिमा की रात चांद जैसी चमकती है धरती, भारत के इस गांव को एक बार जरूर देखें

डेस्क: इस धरती पर कई सारे ऐसे ऐसे जगह स्थित हैं जो विज्ञान को भी हैरान कर देते हैं। वैज्ञानिक भी इन जगहों को देख कर आश्चर्यचकित हो जाते हैं। आज इसी विषय में जानने की कोशिश करेंगे भारत के एक ऐसे गांव के बारे में जो गांव पूर्णिमा की रात चाँद की तरह चमकता हैं। इस चमक को देखने के लिए देश विदेश से लोग आते हैं। यहाँ की खूबसूरती लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती हैं। तो आइये इसके बारे में जानते हैं विस्तार से।

लामायुरु गांव
दरअसल पूर्णिमा की रात को लामायुरु गांव की जमीन चांद की तरह चमकने लगती है। इस गांव को चांद की धरती कहा जाता हैं। यह गांव लेह से 127 किमी दूर बसा है। इस गांव में पहुंचने पर आपको एहसास होगा कि यहां दूर दूर तक वीरानी जमीन, बर्फ से ढके पहाड़ और नदियां और कुछ लामा बस यहीं हैं। समुद्र से 3510 मीटर ऊंचे और माइनस 40 डिग्री तापमान होने के बावजूद भी यहां घूमने का सपना हर सैलानी का होता हैं। यहाँ की खूबसूरती को देखने के लिए देश विदेश से लोग जाते हैं।

यहां पर लामायुरु मोनेस्ट्री है जिसे देखने के लिए दुनिया भर से सैलानी आते हैं। पूर्णिमा की रात यहाँ की जमीन बिल्कुल चाँद की तरह दिखने लगती हैं और इसकी चमक भी अद्भुत होती हैं। इस मोनेस्ट्री को ग्यारहवीं शताब्दी में महासिद्धाचार्य नारोपा ने खोजा था। ये मोनेस्ट्री पांच इमारतों में पहाड़ों पर बनी है। जिसे देखना अद्भुत अनुभव होता है। आप भी पूर्णिमा की रात इस गांव में जा कर यहाँ की खूबसूरती देख सकते हैं। इस खूबसूरती को देखने के लिए पूरी दुनिया से लोग आते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper