यहां मंडराता है भूत का साया, रात में अपने आप हिलने लगते हैं घर

मध्य प्रदेश के शहडोल में एक बस्ती पिछले पांच सालों से वीरान पड़ी है. लोगों का कहना है कि यहां भूत का साया मंडराता है और इसी डर से ये लोग अपने घर छोड़ कर चले गए हैं. जिला मुख्यालय से 25 किमी दूर बिजौरी गांव. ये गांव भूतों की बस्ती के नाम से प्रसिद्ध है. ये बस्ती गांव के पास ही प्रदेश सरकार की बैगा हितग्राही विकास योजना के अंतर्गत लगभग 30 लाख रुपए से बसाई गई थी. गांव के बैगा आदिवासियों को आवास देने 2011-12 में बनी बैगा बस्ती अब खंडहर हो चुकी है.

बस्ती बनने के बाद यहां आए हितग्राहियों में से एक की मौत ने सब को दहशत में डाल दिया है. लोगों का कहना है कि रात होते ही यहां घरों के टिन शेड हिलने लगते हैं. हर रात एक डरावने अनुभव को सहते ये बैगा आदिवासी नए घरों से मात्र 3-4 दिनों में ही भाग निकले. अब 5 सालों से ये बस्ती वीरान है. लोगों में एक अजीब दहशत है.

इस दहशत का ऐसा असर है कि लाखों की लागत से बसी इस सर्व सुविधायुक्त बैगा बस्ती को सभी लोग छोड़ चुके हैं. बैगा आदिवासी अंधविश्वास में जहां आवास होने के बाद भी जर्जर झोपड़ियों और मकानों में रहने को मजबूर हैं तो वहीं, विभाग के अधिकारियों ने भी उन्हें आवासों की चाबी देकर अपनी जवाबदारी समाप्त कर दी है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper