यहां लाइफ पार्टनर के लिए लड़के करते हैं 16 श्रृंगार, पहनते हैं साड़ी और…

नई दिल्ली: शादी के बाद महिलाएं 16 श्रृंगार करती हैं, लेकिन एक ऐसी मंदिर है जहां पुरुषों को भगवान के दर्शन करने से पहले 16 श्रृंगार करना पड़ता है। केरल के कोट्टनकुलंगरा श्रीदेवी मंदिर में पूजा करने से पहले पुरुषों को औरतों की तरह सोलह श्रृंगार करना जरूरी है। इस मंदिर में देवी की आराधना की ये परंपरा सालों से चली आ रही है।

हर साल इस मंदिर में चाम्याविलक्कू फेस्टिवल मनाया जाता है। इसमें आदमी महिलाओं की तरह साड़ी पहनते हैं और पूरा श्रृंगार करने के बाद माता की पूजा करते हैं। माना जाता है कि इस मंदिर में देवी की मूर्ति खुद प्रकट हुई थी। यह केरल का इकलौता मंदिर है, जिसके गर्भगृह के ऊपर छत या कलश नहीं है।

इसे भी पढ़िए: छठी शताब्दी में हुआ था इस मंदिर का निर्माण, यहाँ से जाता है पाताल को रास्ता!

मंदिर में सोलह श्रृंगार करने के बाद पुरुष अच्छी नौकरी, हेल्थ, लाइफ पार्टनर और अपनी फैमिली की खुशहाली की प्रार्थना करते हैं। माना जाता है कि सालों पहले इस जगह पर कुछ चरवाहों ने महिलाओं के कपड़े पहनकर पत्थर पर फूल चढ़ाया था। जिसके बाद पत्थर से दिव्य शक्ति निकलने लगी। बाद में इसे एक मंदिर का रूप दे दिया गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper