यहां 5 दिनों तक बिना कपड़ों के रहती है दुल्हन…वजह जानकार रह जाएंगे हैरान

लखनऊ: भारत में शादियों में कई तरह की परम्परा है. इतनी परम्परा कहीं और शायद ही हो जितना भारत में होता है लेकिन कुछ परम्पराए ऐसी है जिसे सुनकर होश उड़ जायेंगे.आज हम ऐसी ही कुछ परम्पराओं के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे सुनकर आप के होश उड़ जायेंगे.

यह है सबसे बड़ा मुस्लिम देश, जहां पूजे जाते हैं हनुमान, नोटों पर हैं भगवान गणेश

भारत में एक ऐसी ज़गह है जहाँ महिलाएं 5 दिनों तक बिना कपड़ो के रहने को मजबूर रहती हैं. अब इसको सुनकर कोई यकीन नही करेगा लेकिन ऐसा होता है ये बिलकुल सच है और यहाँ पर रहने वाले सभी को इस परंपरा का पालन करना होता है. ये हैरान करने वाली घटना हिमाचल प्रदेश के मणिकर्ण घाटी में स्थित पीणी गांव में होती है. यहाँ पर शादी के बाद महिला को पांच दिनों तक बिना कपड़ो के रहना होता है.

भीख मांग रही बच्ची को इग्नोर कर फैंस के साथ फोटो खिंचवाती रही Sherlyn Chopra, वीडियो हुआ वायरल

यह परम्परा इस गांव में सालों से चली आ रही है. कई स्वयंसेवी संगठनों ने इस परम्परा को बंद करने का अभियान चलाया लेकिन गाँव वाले नही माने.यहाँ पर दुल्हन को पांच दिन तक पति से दूर रखा जाता है और नववधू को एक भी कपड़ा तन ढकने के लिए नहीं दिया जाता है. गाँव वाले ये इसलिए करते हैं ताकि नयी नवेली दुल्हन बुरी नजर से दूर रहे.

ग्रामीणों का मानना है कि इस रस्म से नए परिवार की सभी परेशानियाँ और बाधाओं का निवारण होता है. मान्यता के अनुसार ये कहा जाता है जो इस रस्म को पूरा नही करता है उसे बड़े संकट का सामना करना पड़ता है. गाँव वालो का मानना है इस परंपरा से भगवान भी खुश हो जाते हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper