यादों में अटलजी: इंदिरा की चुटकी लेते हुए कहा था, चीनी कड़वी कर दी

भदोही: राजनीति में अटल युग का अंत हो गया, लेकिन वह अलविदा होकर भी हमारे बीच मौजूद हैं। राजनीति के इस महानायक की हजारों यादों की लड़ियां हमारे पास उपलब्ध हैं, जिसकी याद कर लोगों की आंखें नम हो जाती हैं। लोकतंत्र के महानायक की 28 साल पुरानी याद आज भी उत्तर प्रदेश के भदोही जिले के लोगों के जेहन में जिंदा है। जिस पर वक्त के थपेड़ों के साथ धूल जम गयी थी, लेकिन कुरेदने के बाद वह तस्वीर साफ हो गयी।

अटल ने 26 मई 1980 में गोपीगंज के रामलीला मैदान में एक सभा को संबोधित करते हुए रो दिया था। जब इंदिरा गांधी ने चीनी के दामों में वृद्धि किया तो उन्होंने इंदिरा गांधी की मीठी चुटकी लेते हुए कहा था चीनी कड़वी हो गई। उन्हें सुबह के नास्ते मठरी और मगदल बेहद प्रिय था, जिसे अटल जी अपने साथ लेकर चलते थे।

भदोही जिले के गोपीगंज नगर के व्यापार मंडल के अध्यक्ष ज्ञानेश्वर अग्रवाल 26 मई 1980 की तस्वीर दिखाते हुए कहते हैं कि राजनीति में अब ऐसा व्यक्तित्व नहीं होगा। बोले अटल जी कहते थे राजनीति में विरोध होना चाहिए विरोधी नहीं। अपनी यादों पर जोर देकर बताते हैं कि 1980 में नगर के रामलीला मैदान में उनकी एक सभा आयोजित थी। वह श्रीराम जायसवाल के आवास पर ठहरे थे। वह सभा के संबोधन के लिए निकले तो लोगों ने उन्हें गाड़ी में बैठने का अनुरोध किया, लेकिन वह पैदल चल दिए।

उन्होंने मुझसे कहा आप युवा हैं, संघर्ष के लिए हमेशा तैयार रहिए। रामलीला मैदान में उनके ओजपूर्ण भाषण सुन कर सभी लोग प्रभावित हो गए। नाश्ते में उन्हें मैदे से बनी मठरी और मगदल का लड्डू बेहद पसंद था, वह अपने साथ लेकर चलते थे।

उन्होंने कहा था कि राजनीति में विरोध होना चाहिए, लेकिन विरोधी नहीं। रामलीला मैदान में जब वह भाषण देने लगे तो उस दौरान दिल्ली में इंदिरा गांधी की सरकार थी, उन्होंने चीनी का दाम बढ़ाया था, जिस पर अटल जी ने चुटकी लेते हुए कहा चीनी कड़वी कर दी है। सभा के पूर्व उनका घंटों सानिध्य मिला। वह यादें आज भी जेहन में जिंदा हैं। अटल बिहारी बाजपेयी के जाने से भारतीय राजनीति का स्वर्णिम युग का अंत हो गया है।लेकिन करोड़ों भारतीयों के दिलों में अटल युगों-युगों तक राज करेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper