युगांतकारी रहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दूसरे कार्यकाल का पहला साल: योगी आदित्यनाथ

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल का पहला साल ऐतिहासिक रहा। साल भर में उन्होंने जो काम किया, वर्षों से देश के लिए चुनौती बनी बड़ी समस्याओं के हल के लिए उन्होंने जो जज्बा दिखाया वह खुद में युगांतकारी और बेमिसाल है।मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्षों से देश के लिए नासूर बने अनुच्छेद 370 की एक झटके में समाप्ति, तीन तलाक की कुप्रथा का अंत, आतंकवाद विरोधी अधिनियम को लागू करना और अयोध्या में राम जन्म भूमि पर भव्य श्री राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करना इसका सबूत है।

जम्मू कश्मीर में 70 वर्षों से नासूर बने अनुच्छेद 370 के खात्मे के निर्णय से 130 करोड़ देशवासियों का एक भारत-श्रेष्ठ भारत का सपना साकार हो गया। उन्होंने कहा कि कि अभूतपूर्व और अप्रत्याशित वैश्विक महामारी कोरोना के संकट से प्रधानमंत्री की अगुआई में जो जंग लड़ी जा रही है, वह भी पूरी दुनिया के लिए नजीर है। इस जंग के दौरान लॉकडाउन में उन्होंने सबसे प्रभावित तबके के हित पर सर्वाधिक ध्यान देकर अनुकरणीय कार्य किया। इसी तबके के हित में उन्होंने 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा की। स्वदेशी को बढ़ावा देने के संदेश के साथ आत्मनिर्भरता का जो मंत्र दिया उसके जरिए अब भारत इस राह पर चल पड़ा है। शीघ्र ही भारत पूरी दुनिया का मैन्यूफैक्चिरिंग हब बनेगा। इस ऐतिहासिक कदम के लिए प्रधानमंत्री की जितनी भी तारीफ की जाये कम है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के माध्यम से पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के पीड़ित हिंदू एवं अल्पसंख्यक समुदाय को गरिमापूर्ण जीवन प्रदान करते हुए भारत के नागरिकता के वर्षों के सपने को साकार किया। आजादी के बाद पहली बार देश में मोदीजी के नेतृत्व में ट्रिपल तलाक को गैरकानूनी घोषित कर इस कुप्रथा का अंत हुआ। इस निर्णय से नारी गरिमा एवं सम्मान की रक्षा हुई। साथ ही सदियों से जारी असमानता भी समाप्त हुई।
मुख्यंत्री ने कहा कि कोरोना के अभूतपूर्व संकट के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अभूतपूर्व फैसले लिए। 80 करोड़ गरीबों, किसानों, महिलाओं, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमियों और समाज के विभिन्न तबकों को व्यापक हित में 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज से लाभान्वित किया। देश के मध्यम वर्ग के लिए आयकर में छूट देने के साथ समय-समय पर शुरू की गई विभिन्न योजनाओं के जरिये उनके जीवन में प्रगति और खुशहाली लाने के लिए कई लिए निर्णय लिए। उन्होंने कहा कि संकट के इस दौर में पूरे देश को एक सूत्र में पिरोते हुए इस महामारी से लड़ने के लिए दूरदर्शिता के साथ और भी कई साहासिक एवं सकारात्मक निर्णय उनके द्वारा लिए गये। मसलन अपनी ऊर्जा और कौशल का उपयोग अपनी ही मातृभूमि के लिए करने का अवसर प्रदान करते हुए देश की युवा पूंजी को देश की ताकत बनाने का निर्णय लिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अन्नदाता किसानों के आर्थिक हितों की सुरक्षा के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना लागू करने के साथ-साथ उनकी समृद्धि के लिए किए गए अभूतपूर्व कार्यों के साथ उनके बेहतर भविष्य के लिए भी कई निर्णय लिए गए। कोरोना संकट के दौरान उनके यशस्वी नेतृत्व का ही नतीजा रहा कि वैश्विक मंच पर भारत की पहचान और मुकम्मल हुई। कुल मिलाकर यह उन नारों (सबका साथ,सबका विकास। एक भारत, श्रेष्ठ भारत) को मूर्त रूप मिला जिनको छह साल पहले भाजपा ने दिया था। इन निर्णयों से ही आज भारत दुनिया के समक्ष एक मिसाल बन कर खड़ा हुआ है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper