यूक्रेन छोड़कर भागे 1.5 लाख लोग, रूसी बैंक SWIFT से बाहर- सोशल मीडिया पर प्रतिबंध

कीव: यूक्रेन की राजधानी कीव में एक बार फिर धमाकों की आवाजें सुनी गई हैं। रूस द्वारा किए जा रहे हमले चौथे दिन में प्रवेश कर गए हैं। यूरोपियन यूनियन ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के नेतृत्व में रूसी सेना द्वारा की जा रही कार्रवाइयों को रोकने का प्रयास किया है। वहीं, यूक्रेन के राष्ट्रपति वोल्दिमीर जेलेंस्की ने कहा है कि हम तब तक लड़ाई लड़ेंगे, जब तक कि हम अपने देश को मुक्त नहीं करा लेते। अमेरिका, जर्मनी, ब्रिटेन समेत पश्चिमी मुल्कों ने यूक्रेन की मदद के लिए हथियारों की सप्लाई पहुंचाई हैं। अभी तक इस युद्ध में भारी जान-माल का नुकसान हुआ है।

युद्ध की शुरुआत होने से लेकर अब तक 1,50,000 लोग यूक्रेन छोड़कर भाग चुके हैं। कीव में पिछली रात एक बार फिर डर का माहौल देखा गया, क्योंकि दो जबरदस्त धमाकों की आवाजें सुनाई दीं। शनिवार को रिहायशी इमारतों पर मिसाइलों से हमला किया गया, जबकि क्रेमलिन ने कहा है कि वह नागरिकों को निशाना नहीं बनाएगा। रूस द्वारा यूक्रेन पर बोले गए हमलों को लेकर लगातार उस पर कार्रवाई हो रही है। इसी कड़ी में अमेरिका, यूरोपियन यूनियन और ब्रिटेन ने रूस के बैंकों को SWIFT ग्लोबल फाइनेंशियल मैसेजिंग सिस्टम से ब्लॉक कर दिया है।

वैश्विक वित्तीय प्रतिबंधों के बाद, यूक्रेन को अंततः फ्रांस और जर्मनी से सैन्य समर्थन मिल रहा है। अमेरिका ने भी 350 मिलियन अमेरीकी डॉलर की सहायता की घोषणा की है। इसके अलावा, जर्मनी ने टैंक रोधी हथियार भेजे हैं। पश्चिमी मुल्कों के साथ बिगड़ते संबंधों के बीच रूस ने लिथुआनिया, लातविया, एस्टोनिया और स्लोवेनिया के लिए अपने एयरस्पेस को बंद कर दिया है। रूस की सरकारी विमानन एजेंसी Rosaviatsiya ने कहा कि ऐसा इन चारों देशों द्वारा रूस के लिए एयरस्पेस बंद करने पर कार्रवाई के रूप में किया गया है।

युद्ध शुरू होने के बाद यूक्रेन छोड़कर भागे 1.5 लाख लोग, रूसी बैंक SWIFT से बाहर, पढ़ें अभी तक के 10 बड़े अपडेट्स

रूस में सोशल मीडिया पर प्रतिबंधों की जानकारी भी सामने आई है। ट्विटर ने ट्वीट किया, हम जानते हैं कि रूस में कुछ लोगों के लिए ट्विटर को प्रतिबंधित किया जा रहा है और हम हमारी सेवा को सुरक्षित और सुलभ रखने के लिए काम कर रहे हैं। क्रेमलिन की आधिकारिक वेबसाइट भी बंद हो गई।

दुनियाभर में रूस के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं और उसे यूक्रेन से अपनी सेना वापस बुलाने को कहा गया है। हालांकि, अभी तक राष्ट्रपति पुतिन की तरफ से ऐसा कोई भी कदम नहीं उठाया गया है। फ्रांस, ब्रिटेन, अमेरिका और अन्य देशों में प्रदर्शन हो रहे हैं। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यूरोप इतनी भयानक तबाही देख रहा है।

अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि अभी तक बच्चों समेत 198 लोगों की यूक्रेन में अभी तक मौत हो चुकी है। कीव ने इससे पहले दावा किया था कि रूस में भी 1000 लोगों की मौत हुई है।

यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने रूस के साथ बातचीत शुरू करने के प्रयासों का स्वागत किया है। जेलेंस्की ने शनिवार को एक वीडियो संदेश में कहा कि तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैय्यब एर्दोगान और अजरबैजान के राष्ट्रपति इलहाम अलीयेव ने बातचीत शुरू करने में मदद की पेशकश की है और हम सिर्फ इसका स्वागत कर सकते हैं।

यूक्रेन ने कहा कि रूस की सेना ने देश के दूसरे सबसे बड़े शहर खार्किव में गैस पाइपलाइन बम धमाके से उड़ा दी है। इससे देश में ऊर्जा संकट खड़ा हो सकता है।

रूसी सेना ने कीव में रेडियोधर्मी कचरा निपटान स्थल पर गोलीबारी की। यूक्रेन के राज्य परमाणु नियामक निरीक्षणालय के शुरुआती आकलन के अनुसार, स्वच्छता संरक्षण क्षेत्र के बाहर के लोगों के लिए कोई खतरा नहीं है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper