यूक्रेन से लौटे मेडिकल छात्रों की मदद के लिए केंद्र से संपर्क करेगी केरल सरकार

तिरुवनंतपुरम। केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने सोमवार को राज्य विधानसभा को सूचित किया कि राज्य सरकार केंद्र और राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) से संपर्क करेगी ताकि यह देखा जा सके कि युद्धग्रस्त यूक्रेन से लौटे राज्य के मेडिकल छात्रों को कैसे मदद की जा सकती है। विजयन ने कहा, “मैं विधानसभा को आश्वासन देता हूं, राज्य सरकार यह देखने के लिए हर संभव प्रयास करेगी कि यूक्रेन में चिकित्सा का अध्ययन करने वाले हमारे छात्रों की सबसे अच्छी मदद कैसे की जा सकती है। क्या किया जा सकता है, इस पर एक निर्णय केंद्र और एनएमसी को लेना है और इसके लिए जो भी संभव होगा हम वह करेंगे।”

उन्होंने आगे कहा कि एनएमसी के फैसले का इंतजार है क्योंकि वे ऐसी चीजों के लिए सक्षम प्राधिकारी हैं।

विजयन ने कहा, “युद्ध और महामारी की अवधि के चरम मामलों में एनएमसी के दिशानिर्देश हैं कि विशेष रूप से उन लोगों के लिए क्या किया जाना चाहिए जो रेजीडेंसी कर रहे हैं और ऐसे छात्रों के लिए आगे का रास्ता क्या है।”

उन्होंने यह भी बताया कि यूक्रेन में युद्ध के परिणामस्वरूप उन सभी छात्रों के लिए जो वहां विभिन्न पाठ्यक्रमों में अध्ययन कर रहे थे, उन्हें वापस लौटना पड़ा और जिन्होंने अपने प्रमाण पत्र और अपने भविष्य के अध्ययन की चिंताओं को खो दिया है, केंद्र को इनके बारे में कुछ निर्णय लेना होगा।

विजयन ने कहा, “इस सब के समन्वय के लिए, एक विशेष प्रकोष्ठ की स्थापना की जाएगी जिसमें स्वास्थ्य विभाग और अनिवासी केरलवासी मामलों के विभाग (नोरका) के अधिकारी शामिल होंगे और हाल ही में पेश किए गए बजट में 10 करोड़ रुपये का आवंटन अलग रखा गया है।”

विजयन के अनुसार केरल के लगभग 3,000 छात्र हैं, जिनमें से अधिकांश यूक्रेन के विभिन्न विश्वविद्यालयों में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे थे।

पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी पहले ही विजयन को यह देखने के लिए कह चुके हैं कि ऐसे कदम उठाए जाएं ताकि वे सभी छात्र जो यूक्रेन से लौटे हैं वे राज्य में अपनी पढ़ाई फिर से शुरू कर सकें और कर्नाटक ने पहले ही घोषणा कर दी है कि वे इसके साथ आगे बढ़ रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper