यूपीपीसीएल की सभी परीक्षाएं रदद

लखनऊ। यूपी एसटीएफ के उत्तर प्रदेश पावर कॉरपोरेशन की भर्ती परीक्षाओं में घपले का खुलासा करते ही सरकार ने कड़ा कदम उठाते हुए यूपीपीसीएल की सभी परीक्षाएं रद कर दीं। परीक्षा कराने वाली संस्था एप्टेक ने परीक्षा कराने से पूर्व दावा किया था कि उसका सिस्टम फुल प्रूफ है, उसके ऑनलाइन सिस्टम को किसी भी तरह से हैक नहीं किया जा सकता, जबकि एसटीएफ की जांच में इसका उलट पाया गया। आराम से एप्टेक कंपनी के सिस्टम को हैक कर लिया गया। एसटीएफ की जांच में परीक्षा की धांधली में कम्पनी की संलिप्तता उजागर हुई। सरकार ने कंपनी के धांधली में शामिल होने की स्पेशल टास्क फोर्स की पुष्टि के बाद सख्त कार्रवाई करते हुए कंपनी को काली सूची में डाल दिया।

पावर कारपोरेशन के अध्यक्ष आलोक कुमार ने पावर कारपोरेशन की भर्ती परीक्षा में स्पेशल टास्क फोर्स की जांच में धांधली में लिप्त पाए गए विद्युत सेवा आयोग के अध्यक्ष एके सक्सेना और सचिन जीसी द्विवेदी को निलंबित कर दिया। इसके साथ ही उन्होंने परीक्षा संपन्न कराने का जिम्मा निभाने वाली एप्टेक कंपनी को भी ब्लैक लिस्ट कर दिया। सरकार की तरफ से बिजली विभाग के अधिकारियों पर यह बहुत बड़ी कार्रवाई मानी जा रही है। प्रमुख सचिव ऊर्जा आलोक कुमार ने साफ तौर पर कहा है की जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा, उसे किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा।

सभी परीक्षाएं रदद

भर्ती परीक्षा में धांधली की पुष्टि के बाद प्रमुख सचिव ऊर्जा ने कड़ी कार्रवाई करते हुए एप्टेक कंपनी को तो ब्लैक लिस्ट किया है विद्युत सेवा आयोग के अध्यक्ष एके सक्सेना और सचिव जैसी द्विवेदी को भी सस्पेंड कर दिया। इसके साथ ही पावर कारपोरेशन अध्यक्ष आलोक कुमार ने अवर अभियंता, सहायक समीक्षा अधिकारी, कार्यालय सहायक व अपर निजी सचिव समेत भतीज़् की सभी ऑनलाइन परीक्षाएं रद कर दीं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और ऊजाज़् मंत्री श्रीकांत शर्मा के पूरे मामले को गंभीरता से लेने के बाद जांच कराई गई। ऊर्जा मंत्री ने दोषी अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं।

समिति को भी माना है दोषी

परीक्षा में धांधली की जांच में एसटीएफ ने विद्युत सेवा आयोग के अध्यक्ष सचिव और एप्टेक कंपनी को तो दोषी ठहराया ही, पावर कारपोरेशन की परीक्षा संचालन समिति को भी दोषी माना है। कारपोरेशन अध्यक्ष ने स्पष्ट कहा है कि संचालन समिति में भी जो अधिकारी जिम्मेदार होगा, उस पर कार्रवाई होना तय है। उन्होंने परीक्षा संचालन कराने वाले सभी पैनल भंग कर दिए। बताया कि सभी जिम्मेदारों पर विधिक कार्यवाही भी की जाएगी। यूपी एसटीएफ के खुलासे के बाद यूपीपीसीएल के अफसरों पर यह अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper